लखनऊ : CM आवास के पास मां-बेटी ने की 'आत्मदाह' की कोशिश, अमेठी में थाना इंचार्ज सस्पेंड

लखनऊ में सीएम आवास के सामने अमेठी के जामो इलाके से आई मां-बेटी ने शुक्रवार को खुद को लगाने की कोशिश की थी. इस मामले में बीती रात जामो इलाके के पुलिस स्टेशन इंचार्ज को निलंबित कर दिया गया है. मिली जानकारी के मुताबिक  भूमि विवाद के मामले में पुलिस की ओर से कथित तौर पर कार्रवाई नहीं किए जाने के विरोध में शुक्रवार को मां-बेटी ने यहां लोकभवन के सामने आत्मदाह की कोशिश की थी

लखनऊ :  CM आवास के पास मां-बेटी ने की 'आत्मदाह' की कोशिश,  अमेठी में थाना इंचार्ज सस्पेंड

दोनों मां-बेटियां अमेठी से आई थीं.

लखनऊ:

लखनऊ में सीएम आवास के सामने अमेठी के जामो इलाके से आई मां-बेटी ने शुक्रवार को खुद को लगाने की कोशिश की थी. इस मामले में बीती रात जामो इलाके के पुलिस स्टेशन इंचार्ज को निलंबित कर दिया गया है. मिली जानकारी के मुताबिक  भूमि विवाद के मामले में पुलिस की ओर से कथित तौर पर कार्रवाई नहीं किए जाने के विरोध में शुक्रवार को मां-बेटी ने यहां लोकभवन के सामने आत्मदाह की कोशिश की थी. पुलिस ने बताया कि घटना शाम लगभग साढ़े पांच बजे की है, जब अमेठी की दो महिलाओं ने खुद पर कैरोसिन छिड़का और आग लगा ली. 

मौके पर मौजूद पुलिस वाले तुरंत उनकी ओर भागे. इनमें से एक महिला का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया जिसमें वह आग की लपटों में भागती हुई नजर आई. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि दोनों को सिविल अस्पताल की बर्न यूनिट में भर्ती कराया गया.  उनकी हालत गंभीर बताई जाती है. 

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि मिली जानकारी के मुताबिक अमेठी के जामो क्षेत्र में किसी विवाद के चलते महिलाओं ने यह कदम उठाया. दोनों महिलाएं यहां आयीं लेकिन किसी से संपर्क नहीं किया और सीधे लोकभवन के सामने पहुंचकर आत्मदाह का प्रयास किया. मामले की जांच की जा रही है. ये घटना अत्यंत कड़ी सुरक्षा वाली जगह पर हुई, जहां विधान भवन और लोकभवन हैं. लोक भवन में ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कार्यालय है. 

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वहीं इस मामले में बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कहा, 'जमीन विवाद प्रकरण में अमेठी जिला प्रशासन से न्याय न मिलने पर माँ-बेटी को लखनऊ में सीएम कार्यालय के सामने आत्मदाह करने को मजबूर होना पड़ा. यूपी सरकार इस घटना को गम्भीरता से ले तथा पीड़ित को न्याय दे व लापरवाह अफसरों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई करे ताकि ऐसी घटना पुनः न हों.' (इनपुट भाषा से भी)