NDTV Khabar

मुलायम सिंह यादव ने रामगोपाल यादव को लोहिया ट्रस्ट के सचिव पद से हटाया

यादव खानदान की गुटबाजी में मुलायाम और उनके छोटे भाई शिवपाल एक तरफ और अखिलेश और मुलायाम के चचेरे भाई रामगोपाल यादव एक तरफ माने जाते हैं. 

3 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुलायम सिंह यादव ने रामगोपाल यादव  को लोहिया ट्रस्ट के सचिव पद से हटाया

मुलायम सिंह यादव(फाइल फोटो)

खास बातें

  1. समाजवादी पार्टी का राष्ट्रीय अधिवेशन 5 अक्टूबर को आगरा में होना है
  2. मुलायम सिंह यादव ने रामगोपाल यादव को लोहिया ट्रस्ट के सचिव पद से हटाया
  3. इससे यादव खानदान मनें चल रही सुलह की कोशिशों को धक्का लगा है
लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन से पहले यादव परिवार की जंग तेज हो गई है. मुलायम सिंह यादव ने गुरुवार को अपने भाई रामगोपाल यादव को लोहिया ट्रस्ट के सचिव पद से बर्खास्त कर दिया. उनकी जगह मुलायम सिंह यादव ने शिवपाल यादव को सचिव बना दिया है. इससे यादव खानदान मनें चल रही सुलह की कोशिशों को धक्का लगा है. यादव खानदान की गुटबाजी में मुलायाम और उनके छोटे भाई शिवपाल एक तरफ और अखिलेश और मुलायाम के चचेरे भाई रामगोपाल यादव एक तरफ माने जाते हैं. 

लोहिया ट्रस्ट मुलायम सिंह यादव का बनाया समाजवादी पार्टी के लोगों का पुराना ट्रस्ट है जिसमें मुलायम सिंह यादव अध्यक्ष, रामगोपाल यादव उपाध्यक्ष और शिवपाल यादव और अखिलेश यादव सदस्य थे. पिछले 8 अगस्त को हुई ट्रस्ट की बैठक में मुलायम सिंह ने अखिलेश यादव के करीबी 4 लोगों को बर्खास्त कर उनकी जगह शिवपाल के करीबी 4 लोगों को ट्रस्ट का सदस्य बना दिया था. आज उन्होंने रामगोपाल यादव को बाहर का रास्ता दिखा दिया है. 

यह भी पढे़ं : पेट्रोल की बढ़ी कीमतों को लेकर अखिलेश यादव ने ऐसे घेरा मोदी सरकार को

समाजवादी पार्टी का राष्ट्रीय अधिवेशन 5 अक्टूबर को आगरा में होना है जिसमें 3 साल के लिए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव होगा. इस साल 1 जनवरी को लखनऊ में  हुई पार्टी के विशेष राष्ट्रीय अधिवेशन में मुलायम सिंह को अध्यक्ष पद से हटाकर अखिलेश यादव को राष्ट्रीय अध्यक्ष बना दिया गया था. 

VIDEO : अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी भ्रष्टाचार की वजह से : अखिलेश यादव
यूपी विधनसभा चुनाव के वक्त अखिलेश ने बार बार मीडिया से कहा था कि चुनाव के बाद वह मुलायम सिंह को अध्यक्ष पद वापस कर  देंगे. इस दौरान शिवपाल यादव भी पार्टी में हाशिये पर पहुंच गए हैं. पिचळे कुछ महीनों से कई लोग मुलायम सिंह, अखिलेश और शिवपाल के बीच सुलह कराने की कोशिशों में लगे हैं. तमाम निगाहें पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन पर भी हैं जो तय करेगा कि बाप बेटे किस राह जाएंगे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement