चिन्‍मयानंद पर रेप का केस नहीं, आरोप लगाने वाली लड़की पर फिरौती मांगने का मुकदमा

एक लॉ स्‍टूडेंट के रेप के आरोपों से घिरे बीजेपी नेता स्‍वामी चिन्‍मयानंद को शुक्रवार को SIT ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया लेकिन उनके ऊपर रेप का केस नहीं दर्ज किया.

खास बातें

  • चिन्मयानंद ने कबूल किए सारे आरोप
  • SIT से कहा- गलती पर मैं शर्मिंदा हूं
  • आरोप लगाने वाली लड़की ने कहा- जिसका डर था वही हुआ
लखनऊ:

एक लॉ स्‍टूडेंट के रेप के आरोपों से घिरे बीजेपी नेता स्‍वामी चिन्‍मयानंद को शुक्रवार को SIT ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया लेकिन उनके ऊपर रेप का केस नहीं दर्ज किया. जबकि आरोप लगाने वाली लड़की के खिलाफ एसआईटी ने चिन्‍मयानंद को ब्‍लैकमेल कर 5 कारोड़ की फिरौती मांगने का केस दर्ज कर उसके तीन साथियों को जेल भेज दिया है. लड़की की गिरफ्तारी अभी नहीं हुई है. आरोप लगाने वाली लड़की ने इस पर हैरत जताई है. स्‍वाती चिन्‍मयानंद को आखिरकार एसआईटी ने उनके आश्रम से गिरफ्तार कर लिया. उनका मेडिकल कराया गया, फिर उन्‍हें अदालत में पेश किया गया जहां से वो 14 दिन की न्‍यायिक हिरासत में भेज दिए गए. एसआईटी कहती है कि उन्‍होंने रेप के अलावा बाकी सारे गुनाह कबूल कर लिए हैं.

रेप के आरोपी चिन्मयानंद यानी कृष्णपाल सिंह का पूरा कच्चा चिट्ठा

एसआईटी प्रमुख नवीन अरोड़ा ने कहा, 'स्‍वामी ने लगभग वो सारी चीजें स्‍वीकार कर ली हैं जो आरोप लगे हैं और जैसे उन्‍होंने अपनी मौजूदगी स्‍वीकारी, उन्‍होंने अश्‍लील बातचीत करना स्‍वीकारा, उन्‍होंने बॉडी मसाज करना स्‍वीकारा, यहां तक उन्‍होंने पूर्ण रूप से स्‍वीकार लिया है.चिन्‍मयानंद पर रेप की बजाय आईपीसी की दफा 376सी के तहत केस दर्ज हुआ है जिसमें उनके ऊपर उनके लॉ कॉलेज में अपनी पोजिशन का इस्‍तेमाल कर लड़की को फुसला कर जिस्‍मानी रिश्‍ते बनाने का आरोप है. चिन्‍मयानंद पर इल्‍जाम लगाने वाली इससे नाखुश है. आरोप लगाने वाली लड़की का कहना है, 'जब मैं यहां पर एसआईटी के सामने 161 का बयान देने गई थी, मैंने उस दिन बता दिया था कि मेरे साथ रेप हुआ है, किस तरीके से हुआ है, सबकुछ बताया था. इसके बावजूद चिन्‍मयानंद पर 376सी लगाई गई, जिस चीज का डर था वही हुआ.'

चिन्मयानंद ने कबूल किए सारे आरोप, SIT से कहा- गलती पर मैं शर्मिंदा हूं

एसआईटी कहती है कि चिन्‍मयानंद लड़की से रेप करने के सवाल पर जवाब नहीं देते. एफआईआर दर्ज से कोई आरोप साबित नहीं होता, लेकिन एसआईटी ने रेप की एफआईआर क्‍यों नहीं की ये साफ नहीं. चिन्‍मयानंद को 5 करोड़ की फिरौती के लिए ब्‍लैकमेल करने के इल्‍जाम में एसआई ने आरोप लगाने वाली लड़की और उसके तीन साथियों संजय सिंह, विक्रम सिंह और सचिन सेंगर पर भी मुकदमा दर्ज किया है. तीनों साथियों को गिरफ्तार कर पुलिस ने जेल भेज दिया लेकिन लड़की को अभी गिरफ्तार नहीं किया है. एसआईटी का कहना है कि केस को ठीक से साबित करने लिए वे उन सबूतों को फिर जुटाने की कोशिश कर रही है जो मिटा दिए गए हैं.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com