CAA विरोधी हिंसा मामलों में तोड़फोड़ करने वाले 13 लोगों से 21 लाख रुपये वसूली के लिये नोटिस जारी

अदालत ने इन सभी 13 लोगों को हर्जाना की राशि जमा करने के लिए 30 दिन का समय दिया है.

CAA विरोधी हिंसा मामलों में तोड़फोड़ करने वाले 13 लोगों से 21 लाख रुपये वसूली के लिये नोटिस जारी

CAA विरोधी हिंसा मामलों में तोड़फोड़ करने वाले से वसूली के लिये नोटिस जारी किया गया है.

खास बातें

  • सीएए कानून के खिलाफ हुई थी हिंसा
  • सार्वजनिक संपत्ति को पहुंचाया गया था नुकसान
  • मामलों में वसूली की जा रही है
लखनऊ:

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में लखनऊ में 19 दिसंबर को हिंसा के दौरान तोड़फोड़ करने वालों को जिला प्रशासन ने रिकवरी नोटिस जारी किया है. इस हिंसा के मामले में नुकसान में अपर जिला मजिस्ट्रेट की अदालत ने 13 लोगों पर आरोप तय करते हुए 21 लाख 76 हजार रूपये की रिकवरी करने का आदेश जारी किया है. अदालत ने इन सभी 13 लोगों को हर्जाना की राशि जमा करने के लिए 30 दिन का समय दिया है. लखनऊ के कमिश्नर मुकेश मेश्राम ने बताया कि नुकसान के कुल करीब साढ़े चार करोड़ रूपये की रिकवरी की जानी है और यह अभी पहली सूची है.

कानपुर में CAA का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों को जबरन हटाने पर बवाल

उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में 19 दिसंबर को लखनऊ में हिंसा के दौरान सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के मामले में लोगों को नोटिस भेजा जा रहा है. अभी तक 13 लोगों के खिलाफ नोटिस जारी किये गये हैं, जिन्हें 21.76 लाख रुपये जमा करना होगा. जिन्हें नोटिस जारी हुआ है, इन लोगों की सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के साथ ही गाड़ियों में तोड़फोड़ तथा आगजनी करने में संलिप्तता है. करीब एक दर्जन गाड़ियों को आग के हवाले किया गया था.

मेश्राम ने बताया कि 19 दिसंबर को हुए उग्र प्रदर्शन को लेकर एडीएम टीजी की अदालत का यह पहला फैसला है. कुल 4.5 करोड़ रुपये की रिकवरी होनी है. आने वाले दिनों में कोर्ट इस तरह के और फैसले सुनाएगी. जिन 13 लोगों पर रिकवरी तय हुई है उन्हें हर हाल में 30 दिन के अंदर पैसा जमा करना होगा. 

देखें Video: आजमगढ़ में CAA विरोधी प्रदर्शनकारियों के परिजनों से मिलीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)