NDTV Khabar

सोनिया के गढ़ में PM मोदी की हुंकार: हमारे रक्षा सौदे में क्वात्रोकी 'मामा' और मिशेल 'अंकल नहीं, इसलिए भड़की कांग्रेस?

प्रधानमंत्री बनने के बाद पहली बार रायबरेली में पीएम मोदी ने एक जनसभा को संबोधित किया और कांग्रेस पर जमकर हमला बोला.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सोनिया के गढ़ में PM मोदी की हुंकार: हमारे रक्षा सौदे में क्वात्रोकी 'मामा' और मिशेल 'अंकल नहीं, इसलिए भड़की कांग्रेस?

खास बातें

  1. 'हमारे लिए हमेशा दल से बड़ा देश है और हमेशा रहेगा'
  2. 'ऐसे लोगों के लिए देश का रक्षा मंत्रालय भी झूठा है'
  3. 'उन्हें देश की सर्वोच्च अदालत भी झूठी लगने लगी है'
रायबरेली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोनिया गांधी के गढ़ रायबरेली में कोच फ़ैक्टरी में उत्पादित 900वें रेल डिब्बे व हमसफर रेक को हरी झंडी दिखा कर देश को समर्पित किया. प्रधानमंत्री बनने के बाद पहली बार रायबरेली में पीएम मोदी ने एक जनसभा को संबोधित किया और कांग्रेस पर जमकर हमला बोला. पीएम मोदी ने कहा कि पुरानी सरकारों ने यहां अनदेखी की. राफेल को लेकर जारी घमासान पर पीएम मोदी ने कांग्रेस पर जमकर हमला बोला. पीएम मोदी ने  कहा कि कांग्रेस उन्हें दागदार करने के लिए देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ कर रही है. पीएम मोदी ने कहा कि मैं कांग्रेस से जानना चाहता हूं कि क्या वो इसलिए भड़की हुई है, झूठ पर झूठ बोल रही है क्योंकि भाजपा सरकार जो रक्षा सौदे कर रही है, उसमें कोई क्वात्रोकी मामा नहीं है, क्रिश्चियन मिशेल नहीं है? क्या इसलिए वो अब न्यायपालिका पर अविश्वास का माहौल पैदा करने में जुट गई है?.

राफेल मुद्दा: कांग्रेस पर पलटवार को BJP तैयार, घेरने के लिए 70 शहरों में उतारेगी CMs और मंत्रियों की फौज


पीएम मोदी ने कहा कि यहां आने से पहले मैं पास ही में बनी मॉर्डन कोच फैक्ट्री में था. मैंने उस फैक्ट्री में इस वर्ष बने 900वें डिब्बे को हरी झंडी भी दिखाई. पहले की सरकारों की क्या कार्यसंस्कृति रही है, इसकी गवाह रायबरेली की रेल कोच फैक्ट्री भी है. आगे उन्होंने कहा कि ये फैक्ट्री 2007 में स्वीकृत हुई थी. 2010 में ये फैक्ट्री बनकर तैयार भी हो गई. लेकिन उसके बाद 4 साल तक इस फैक्ट्री में कपूरथला से डिब्बे लेकर उनमें पेंच कसने और पेंट करने का काम हुआ. जो फैक्ट्री नए डिब्बे बनाने के लिए थी, उसे पूरी क्षमता से कभी काम ही नहीं करने दिया गया. 

मोदी सरकार की SC से गुहार: राफेल के आदेश में 'तथ्यात्मक गलती' को सुधार दीजिए, जानें 10 बड़ी बातें

रायबरेली में एक जनसभा को संबोधित करते वक्त पीएम मोदी ने कांग्रेस को निशाने पर लिया. पीएम मोदी ने कहा कि अगर कोच फैक्टरी की क्षमता बढ़ेगी तो यहां के युवाओं के लिए हर तरह के रोजगार बढ़ेंगे. उस दिन के बारे में सोचिए, जब यहां हर रोज 10-12 नए कोच बनने लगेंगे. स फैक्ट्री की क्षमता का विस्तार, कामगारों, इंजीनियरों, टेक्नीशियनों के लिए भी रोजगार के नए अवसर लेकर आएगा. 

अब राफेल डील पर फैसले में 'तथ्यात्मक सुधार' की मांग को लेकर SC पहुंची केंद्र सरकार

पीएम मोदी ने कहा कि जब पहले की सरकार ने यहां पर रेल कोच फैक्ट्री का निर्माण तय किया था, तो ये तय हुआ था कि 5000 कर्मचारियों की नियुक्ति की जाएगी. लेकिन स्वीकृति इसके आधे पदों को ही दी गई. इतना ही नहीं, 2014 में हमने ये भी देखा कि यहां की कोच फैक्ट्री में एक भी नई नियुक्ति नहीं हुई थी. पहले संसाधनों का दुरुपयोग हुआ. मगर अब आज की स्थिति ये है कि लगभग 2 हजार नए कर्मचारियों को हमारी सरकार ने नियुक्त किया है. आज मुझे ये कहते हुए गौरव का एहसास हो रहा है कि आने वाले समय में रायबरेली, रेल कोच निर्माण के मामले में एक ग्लोबल हब बनने वाला है. 

गलत तथ्य देने की जिम्मेदार सरकार, सुप्रीम कोर्ट इसके लिए उचित फोरम नहीं: कपिल सिब्बल

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि मोदी को उन्हें गाली देनी है, मैं जानता हूं. मोदी पर वो किसी भी तरह एक दाग लगा देना चाहते हैं, ये भी जानता हूं. लेकिन जानना चाहता हूं कि इसके लिए देश को ताक पर क्यों रख दिया गया है? क्यों देश की सुरक्षा से खिलवाड़ किया जा रहा है?. आज देश के सामने दो पक्ष हैं. एक पक्ष सरकार का, जो हर तरह से कोशिश कर रही है कि हमारी सेना की ताकत बढ़े. दूसरा पक्ष उन ताकतों का है, जो किसी भी कीमत पर देश को कमजोर करना हैं. देश देख रहा है कि कांग्रेस उन ताकतों के साथ खड़ी है जो हमारी सेनाओं को मजबूत नहीं होने देना चाहतीं. 

राफेल मामला: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- PAC ने CAG रिपोर्ट पर किया है विचार, तो मल्लिकार्जुन खड़गे बोले- मुझे नहीं मिली?

पीएम मोदी ने कहा कि रामचरित मानस में एक चौपाई है. गोस्वामी तुलसीदास जी ने लिखा है कि भगवान राम किसी का व्यक्तित्व समझाते हुए कहते हैं- “झूठई लेना, झूठई देना, झूठई भोजन, झूठ चबेना”. यानि कुछ लोग झूठ ही स्वीकार करते हैं, झूठ ही दूसरो को देते हैं, झूठ का ही भोजन करते हैं और झूठ ही चबाते हैं. 

राफेल पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मल्लिकार्जुन खड़गे ने पूछा- रिपोर्ट PAC में कब पेश की गई, क्या यह पब्लिक डोमेन में है?

राफेल को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा कि ऐसे लोगों के लिए देश का रक्षा मंत्रालय भी झूठा है, देश की रक्षा मंत्री भी झूठी हैं, भारतीय वायुसेना के अफसर भी झूठे हैं, फ्रांस की सरकार भी झूठी है, अब तो उन्हें देश की सर्वोच्च अदालत भी झूठी लगने लगी है. 

प्रधानमंत्री ने कहा कि सच को ऋंगार की जरूरत नहीं होती और झूठ चाहे जितना भी बोला जाए, उसमें जान नहीं होती. लेकिन हमारे यहां ये भी कहा गया है- “जयेत् सत्येन चानृतम्”. यानि झूठ बोलने की प्रवृत्ति पर सत्यवादिता से ही विजय प्राप्त होती है. करगिल युद्ध के बाद हमारी वायुसेना ने आधुनिक विमानों की जरूरत बताई थी. अटल जी की सरकार के बाद कांग्रेस ने 10 साल देश पर राज किया, लेकिन वायुसेना को मजबूत नहीं होने दिया. आखिर क्यों? किसके दबाव में?.

पीएम मोदी ने कहा कि रक्षा सौदों के मामले में कांग्रेस का इतिहास बोफोर्स घोटाले वाले क्वात्राकी मामा का रहा है. हेलीकॉप्टर घोटाले के आरोपी क्रिश्चियन मिशेल को पकड़कर कुछ दिन पहले ही भारत लाया गया है. सभी ने ये देखा है कि कैसे इस आरोपी के बचाने के लिए कांग्रेस ने अपना वकील अदालत में भेज दिया. मैं कांग्रेस से जानना चाहता हूं कि क्या वो इसलिए भड़की हुई है, झूठ पर झूठ बोल रही है क्योंकि भाजपा सरकार जो रक्षा सौदे कर रही है, उसमें कोई क्वात्रोकी मामा नहीं है, क्रिश्चियन मिशेल नहीं है? क्या इसलिए वो अब न्यायपालिका पर अविश्वास का माहौल पैदा करने में जुट गई है?: 

राफेल डील को लेकर आए फैसले पर बोले राहुल गांधी, मैं साबित करूंगा पीएम ने की अनिल अंबानी की मदद

हमारे लिए हमेशा दल से बड़ा देश है और हमेशा रहेगा. मैं देश को कहना चाहता हूं कि जब देश की सुरक्षा की बात हो, सेना की जरूरतों की बात हो, सैनिकों के सम्मान की बात हो, एनडीए सरकार सिर्फ एक बात का ध्यान रखती है- राष्ट्रहित, देशहित. यही हमारी परवरिश है, यही हमारे संस्कार हैं. 

राफेल को लेकर ‘कहानी गढ़ी' गई, हंगामा करने वाले सभी मोर्चों पर नाकाम : अरुण जेटली

टिप्पणियां

कांग्रेस पर प्रहार करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि हमारे जवानों की सुरक्षा के प्रति कांग्रेस का क्या रवैया रहा है, ये मैं देश को फिर याद दिलाना चाहता हूं. 2009 में भारतीय सेना ने 1 लाख 86 हजार बुलेट प्रूफ जैकेट की मांग की थी. 2009 से लेकर 2014 तक पांच साल बीत गए, लेकिन सेना के लिए बुलेटप्रूफ जैकेट नहीं खरीदी गई. केंद्र में हमारी सरकार बनने के बाद 2016 में हमने सेना के लिए 50 हजार बुलेटप्रूफ जैकेट खरीदी. मैं देश को ये भी जानकारी देना चाहता हूं कि इस साल अप्रैल में पूरी 1 लाख 86 हजार बुलेट प्रूफ जैकेट का ऑर्डर दिया जा चुका है. ये जैकेट भारत की ही एक कंपनी बना रही है. 

VIDEO - राफेलः फैसले में सुधार के लिए केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दी अर्जी
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement