NDTV Khabar

योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में बोले रामविलास वेदांती, 2019 से पहले कभी भी शुरू हो जाएगा राम मंदिर का निर्माण
पढ़ें | Read IN

पूर्व बीजेपी सांसद व राम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य डॉ. रामविलास वेदांती ने सोमवार को कहा कि अब बिना अदालती फैसले के ही राम मंदिर का निर्माण शुरू किया जाएगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में बोले रामविलास वेदांती, 2019 से पहले कभी भी शुरू हो जाएगा राम मंदिर का निर्माण

रामविलास वेदांती ने कहा कि कोर्ट का फैसला आए या नहीं 2019 से पहले शुरू हो जाएगा मंदिर का निर्माण.

खास बातें

  1. वेदांती बोले, कोर्ट का आदेश आए या न आए मंदिर निर्माण होगा शुरू
  2. वेदांती बोले, कोर्ट का आदेश आए या न आए मंदिर निर्माण होगा शुरू
  3. कार्यक्रम में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद थे
लखनऊ/अयोध्या : अगले साल लोकसभा चुनाव है, इसलिए अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मुद्दा एक बार फिर तूल पकड़ने लगा है. पूर्व बीजेपी सांसद व राम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य डॉ. रामविलास वेदांती ने सोमवार को कहा कि अब बिना अदालती फैसले के ही राम मंदिर का निर्माण शुरू किया जाएगा. एक कार्यक्रम में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ मंच साझा करते हुए राम विलास वेदांती कहा कि 2019 से पहले बिना कोर्ट के आदेश के राम मंदिर का निर्माण शुरू होगा, ठीक वैसे ही जैसे विवादित ढांचा ढहाया गया था.' कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हालांकि कहा कि सरकार संवैधानिक मर्यादाओं से बंधी है और मंदिर निर्माण के लिये संत समाज को अभी थोड़ा और इंतजार करना होगा.

यह भी पढ़ें : तोगड़िया ने राम मंदिर के लिए मोदी सरकार को दिया 4 महीने का अल्टीमेटम, नहीं तो ‘अगली बार हिंदू सरकार’ का आह्वान

वेंदाती ने कहा, 'राम मंदिर जो है हमारे देश के हरेक हिंदू का विषय है. जहां राम लला विराजमान हैं वहां मंदिर बनेगा और मंदिर बनाने के लिए किसी कोर्ट की प्रतिक्षा नहीं करेंगे. अगर कोर्ट का आदेश आ जाता है तो ठीक है नहीं आता है तब भी मंदिर बनेगा. ये निश्चित है कि 2019 से पहले मंदिर बनेगा. उन्होंने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण अचानक शुरू होगा. मंदिर का निर्माण पूरा होने में समय लगेगा, लेकिन एक बात निश्चित है कि यह 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले बनना शुरू हो जाएगा. 

यह भी पढ़ें : राम जन्मभूमि विवाद : एक पक्ष ने कहा मामला संवैधानिक पीठ में जाए, अन्य ने कहा जल्द निपटाएं

राम की कृपा होगी तो मंदिर बनकर ही रहेगा : योगी आदित्यनाथ
वहीं, यूपी के सीएम ने योगी ने संत सम्मेलन में कहा, 'हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में रहते हैं. भारत की इस व्यवस्था के संचालन में न्यायपालिका, कार्यपालिका और विधायिका की अपनी भूमिका है. हमें उन मर्यादाओं को भी ध्यान में रखना होगा.' उन्होंने कहा, 'मर्यादा पुरुषोत्तम राम इस ब्रह्मांड के स्वामी हैं. जब उनकी कृपा होगी तो अयोध्या में मंदिर बनकर ही रहेगा. इसमें कोई संदेह नहीं है तो फिर संतों को संदेह कहां से हो जाता है. आपने इतना धैर्य रखा, मुझे लगता है कि कुछ दिन और धैर्य रखना होगा. आशा पर दुनिया टिकी हुई है.'  मुख्यमंत्री ने कहा, 'मेरी अपील है कि भगवान राम मर्यादा के प्रतीक है और संतगण वर्तमान समाज में उनके प्रतिनिधि हैं. ऐसे में हमें सभी समस्याओं का समाधान उसी मर्यादा में रहकर करना पड़ेगा.'

VIDEO : राम मंदिर के दावेदारों के बीच खिंची तलवारें


'रामभक्तों पर गोलियां चलाने वाले करते हैं रामजन्मभूमि की बात'
मुख्यमंत्री ने किसी का नाम लिये बगैर कहा, 'मुझे सबसे ज्यादा आश्चर्य तब होता है जब रामजन्म भूमि की बात वे लोग करते हैं, जिन्होंने अयोध्या में रामभक्तों पर गोलियां चलाई थीं. मुझे अच्छा लगता है कि चलिये भगवान राम ने जैसे भी हो, उनके मुंह से अपनी जन्मभूमि की बात तो कहलवा ही दी. एक प्रकार ये यह भी हमारी ही विजय है.'

टिप्पणियां
योगी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए किसी का नाम लिए बिना कहा कि इस पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने उच्चतम न्यायालय में अर्जी दाखिल करके कहा कि रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद की सुनवाई वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद हो. वहीं, कांग्रेस के ही लोग कह रहे हैं कि भाजपा मंदिर मुद्दे पर कुछ नहीं कर रही है. कहीं ऐसा तो नहीं कि जब विवाद का पटाक्षेप नजदीक है, तब ये लोग कोई दूसरी साजिश रच रहे हों.

(इनपुट : एजेंसियां)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement