NDTV Khabar

अखिलेश यादव के 'रामभक्त' सांसद सुरेंद्र सिंह बोले- अगले 3-6 महीने में हम राम मंदिर बनते हुए देख पाएंगे

लोकसभा चुनाव 2019 जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है, राजनीतिक पार्टियों की ओर से राम मंदिर को लेकर बयान भी तेजी से बढ़ने लगे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अखिलेश यादव के 'रामभक्त' सांसद सुरेंद्र सिंह बोले- अगले 3-6 महीने में हम राम मंदिर बनते हुए देख पाएंगे

समाजवादी पार्टी के सांसद सुरेंद्र सिंह नागर (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव 2019 जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है, राजनीतिक पार्टियों की ओर से राम मंदिर को लेकर बयान भी तेजी से बढ़ने लगे हैं. अयोध्या में राम मंदिर का मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में है, मगर अक्सरहां राजनीतिक दलों के नेता इस मुद्दे पर बोलते नजर आते हैं. हालांकि, इस बार भारतीय जनता पार्टी के नहीं, बल्कि समाजवादी पार्टी के नेता की ओर से राम मंदिर को लेकर बयान आया है. समाजवादी पार्टी के सांसद सुरेंद्र सिंह नागर ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि अगले तीन-छह महीने मनें राम मंदिर बनता हुए सभी देख पाएंगे. 

विश्व हिंदू परिषद ने मोदी सरकार को दी 'डेडलाइन', कहा- राम मंदिर के लिए संसद में लाएं अध्यादेश

दरअसल, समाजवादी पार्टी के नेता सुरेन्द्र सिंह नागर ने कहा कि मैं राम भक्त हूं और मुझे भरोसा है कि आगामी लोकसभा चुनाव के चलते अगले 3-6 महीनों में हम अयोध्या में राम मंदिर बनता हुआ देखेंगे.  हालांकि, उनके इस बयान पर बढ़ता विवाद देख उन्होंने खुद तुरंत सफाई भी दे डाली. 


अपने पुराने बयान पर सफाई देते हुए सांसद सुरेंद्र सिंह ने कहा कि चुनाव की वजह से अब पार्टियां भगवान राम का इस्तेमाल करेंगी. बीजेपी सरकार अपने 4.5 साल पूरा कर चुकी है. उन्होंने वादा किया था कि अगर केंद्र और राज्य दोनों जगह सत्ता में आए तो राम मंदिर बनाएंगे. लेकिन चुनाव के कुछ समय पहले ही उन्हें राम मंदिर की याद आती है. बता दें कि सुरेंद्र सिंह से पहले समाजवादी पार्टी के मुखिया भवगाव विष्णु का मंदिर बनाने की बात कह चुके हैं. उन्होंने ऐलान किया था कि भगवान विष्णु का विशाल मंदिर सैफई में बनेगा. 

अयोध्या में राम मंदिर के लिए वीएचपी ने दी केंद्र को आंदोलन की चेतावनी, BJP को याद दिलाया पालमपुर प्रस्ताव

टिप्पणियां

गौरतलब है कि विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) ने शुक्रवार को कहा कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए वह ‘अंतिम लड़ाई’ लड़ रही है और इस वर्ष के अंत तक संसद में एक अध्यादेश लाने के लिए भाजपा नीत केन्द्र सरकार के लिए एक ‘समय सीमा’ तय की गई है. राम जन्मभूमि न्यास के कार्यकारी प्रमुख महंत नृत्य गोपाल दास की अध्यक्षता में विहिप की उच्च स्तरीय समिति की यहां हुई एक दिवसीय बैठक में एक प्रस्ताव पारित किया गया जिसमें संसद में एक अध्यादेश लाने की मांग की गई, जो उत्तर प्रदेश के अयोध्या में विवादित स्थल पर एक भव्य राम मंदिर के निर्माण का रास्ता निकालेगा. 

VIDEO: मिशन 2019 इंट्रो : चुनाव नजदीक इसलिए उठा राम मंदिर का मुद्दा?



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement