NDTV Khabar

पीएम मोदी करने वाले थे ट्रीटमेंट प्लांट का उद्घाटन, सफाई करने टैंक में उतरे दो मजदूरों की मौत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी( Narendra Modi ) के संसदीय क्षेत्र वाराणसी  (Pm modi Varanasi Constituency) में भी सीवर टैक की सफाई करने उतरे दो मजदूरों की मौत (sewer deaths) हो गई. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पीएम मोदी करने वाले थे ट्रीटमेंट प्लांट का उद्घाटन, सफाई करने टैंक में उतरे दो मजदूरों की मौत

प्रतीकात्मक तस्वीर.

खास बातें

  1. पीएम मोदी वाराणसी में करने वाले थे सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का उद्घाटन
  2. सीवर टैंक की सफाई करने उतरे दो मजदूरों की मौत
  3. इससे पहले भी देश के कई कोनों में हो चुके हैं हादसे
नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी( Narendra Modi ) के संसदीय क्षेत्र वाराणसी  (Pm modi Varanasi Constituency) में भी सीवर टैक की सफाई करने उतरे दो मजदूरों की मौत (sewer deaths) हो गई.  बगैर उचित सुरक्षा उपायों के ही मजदूरों को जहरीली गैस से भरे सीवर टैंक में उतार दिया गया, जिससे दम घुटने से उनकी मौत हो गई. यह घटना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे से पहले हुई है. संबंधित सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट(एसटीपी) का पीएम मोदी 12 नवंबर(सोमवार) को  लोकार्पण करने वाले थे, उसे चालू करने की तैयारियां जोर-शोर से चल रहीं थीं. इसी सिलसिले में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के पंपिंग स्टेशन से जुड़े सीवर टैंक में सफाई करने उतरे मजदूरों की शनिवार(10 नवंबर) को मौत हो गई. घटना वाराणसी शहर के चौकाघाट स्थित दीनापुर सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के पंपिंग स्टेशन की है. दोनों मजदूर रिश्ते में चाचा..भतीजा थे. दिल्ली सहित देश के ज्यादातर शहरों में सीवर टैंक मौत के कुएं बन गए हैं. अक्सर सफाई करने के दौरान मजदूरों की मौत होती है, मगर ठोस प्रबंध न होने के कारण घटनाएं थम नहीं रहीं हैं. जबकि सफाईकर्मियों का संगठन इसको लेकर कई बार मांग कर चुका है. 

यह भी पढ़ें- प्राइम टाइम इंट्रो : ये सीवर हैं या मौत के कुएं?

वाराणसी की चेतगंज पुलिस ने इस संबंध में जल निगम के जूनियर इंजीनियर और ठेकेदार को हिरासत में ले लिया है. दीनापुर सीवेज ट्रीटमेंट प्‍लांट (एसटीपी) के लिए चौकाघाट में पंपिंग स्टेशन बनाया गया था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 12 नवम्बर को दीनापुर सिवेज प्लांट का लोकार्पण करने वाले हैं. प्रधानमंत्री के कार्यक्रम को देखते हुए नवनिर्मित पंपिंग स्टेशन को चालू करने का काम किया जा रहा था. चेतगंज पुलिस के अनुसार जल निगम के ठेकेदार ने करीब आधा दर्जन मजदूरों को सीवर टैंक में उतारा था.

यह भी पढें- दिल्ली : बिना सुरक्षा इंतजामों के सीवर में उतार दिया, पांच मजदूरों की मौत

सीवर टैंक में जहरीली गैस की वजह से दो मजदूर नीचे सीवर टैंक में गिर गए. पुलिस ने बताया कि घटना की सूचना पर पुलिस और एनडीआरएफ़ की टीम घटनास्थल पर पहुंची और मजदूरों की तलाश में जुट गयी. काफी मशक्कत के बाद एनडीआरएफ़ की टीम ने दोनों मजदूरों के शव बाहर निकाले. मृतक मजदूरों की पहचान बिहार के भभुआ जिले के विकास पासवान (18) और उसके भतीजे दिनेश पासवान (27) के रूप में हुई है. पुलिस ने इस मामले में जल निगम के जेई और ठेकेदार को हिरासत में लिया है. पुलिस दोनों मजदूरों के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर मामले की जांच कर रही है.( इनपुट-भाषा से)

टिप्पणियां
वीडियो- प्राइम टाइम इंट्रो : ये सीवर हैं या मौत के कुएं? 




Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement