NDTV Khabar

उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी के आश्वासन के बाद शिक्षामित्रों ने स्थगित किया आंदोलन

लखनऊ में चल रहा शिक्षामित्रों का अनिश्चितकालीन आंदोलन फिलहाल स्थगित हो गया है. यह फैसला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले जल्द समाधान के आश्वासन के बाद लिया गया.

19 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी के आश्वासन के बाद शिक्षामित्रों ने स्थगित किया आंदोलन

अदालत के फैसले के बाद हज़ारों शिक्षामित्रों ने लखनऊ में अपना अनिश्चितकालीन आंदोलन शुरू किया था

खास बातें

  1. SC ने शिक्षा मित्रों को शिक्षक के तौर पर समायोजित करने से इंकार किया था
  2. यूपी में 1.72 लाख शिक्षा मित्र विभिन्न स्कूलों में सेवाएं दे रहे थे
  3. कोर्ट के फैसले के खिलाफ शिक्षा मित्रों ने शुरू किया था आंदोलन
लखनऊ: लखनऊ के लक्ष्मण मेला मैदान में चल रहा शिक्षामित्रों का अनिश्चितकालीन आंदोलन फिलहाल स्थगित हो गया है. आंदोलनकारियों ने यह फैसला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले जल्द समाधान के आश्वासन के बाद लिया गया. मुख्यमंत्री ने शिक्षा मित्रों को तीन दिन का समय देते हुए एक तीन सदस्यीय समिति गठित कर मामले का हल निकालने का आश्वासन दिया है. इससे पहले शिक्षा मित्रों ने लखनऊ में अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया था. मुख्यमंत्री के साथ लगभग डेढ़ घंटे चली बातचीत के बाद हालांकि इस मामले को लेकर कोई ठोस नतीजा नहीं निकल पाया. बैठक के बाद बाहर निकले शिक्षा मित्र एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष इमाम गजाला लारी ने यह जानकारी दी. 

यह भी पढ़ें:  शिक्षा मित्रों का मामला: यूपी सरकार ने नियुक्ति में 25 अंकों का वेटेज देने का किया प्रस्‍ताव

गजाला लारी ने बताया कि मुख्यमंत्री के साथ बातचीत के दौरान 'समान काम, समान वेतन' की अपनी मांग से संबंधित एक प्रत्यावेदन दिया गया. इसमें शिक्षामित्रों की मांगों का जिक्र किया है. मुख्यमंत्री ने भी आश्वासन दिया है कि तीन के भीतर प्रत्यावेदन पर विचार कर इस मुद्दे का समुचित हल निकाला जाएगा. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के आश्वासन के बार फिलहाल आंदोलन स्थगित किया जा रहा है. लेकिन मांगें नहीं माने जाने पर आंदोलन का विकल्प फिर खुला हुआ है. 

VIDEO: सुप्रीम कोर्ट के आदेश से निराश शिक्षा मित्रों का प्रदर्शन बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार ने शिक्षा मित्रों को एक अगस्त से 10 हजार रुपये दिए जाने और अधिकतम 25 अंक का वेटेज दिए जाने की घोषणा कर चुकी है, लेकिन बावजूद इसके शिक्षा मित्रों का आंदोलन जारी रखा था. इससे पूर्व शिक्षामित्रों के प्रदर्शन पर उप मुख्यमंत्री केशव मौर्य ने कहा था कि शिक्षामित्रों के साथ सरकार की पूरी सहानुभूति है. सरकार लगातार बातचीत की कोशिश में है. उन्होंने कहा कि शिक्षामित्रों को समझना चाहिए कि ये निर्णय सरकार का नहीं है. 

(इनपुट भाषा से)
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement