शिवपाल यादव की अखिलेश को नसीहत, बड़ों की बात मानते तो दोबारा सीएम बनते

पूर्व सीएम और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से कहा, कहना माना होता तो बिहार में भी समाजवादी पार्टी की सरकार बनती

शिवपाल यादव की अखिलेश को नसीहत, बड़ों की बात मानते तो दोबारा सीएम बनते

शिवपाल यादव (फाइल फोटो).

खास बातें

  • कहा, सपा कार्यकर्ता एकजुट रहें और लोगों को भी एकजुट करें
  • बसपा से गठबंधन की कोशिशों पर कहा, अध्यक्ष की सूझबूझ पर सवाल नहीं
  • शिवपाल ने बदांयू में छोटे सरकार की मजार पर चादरपोशी की
बदांयू:

समाजवादी पार्टी में अलग-थलग पड़े नेता शिवपाल सिंह यादव ने अपने भतीजे पूर्व मुख्यमंत्री और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को नसीहत दी है कि अगर बुजुर्गों की बात मानी होती तो दोबारा सीएम बनते और बिहार में भी समाजवादी पार्टी की सरकार बनती.  

अखिलेश के चाचा और पार्टी में कभी उनके प्रतिद्वंद्वी रहे शिवपाल ने बदांयू में छोटे सरकार की मजार पर चादरपोशी के बाद संवाददाताओं से कहा कि अखिलेश और उनके चचेरे भाई सांसद धर्मेन्द्र यादव को उन्होंने गोद में खिलाया, परवरिश की, यहां तक कि उनकी शादी भी की, लेकिन युवा पीढ़ी अब किसी की नहीं सुनती है. उन्होंने कहा, ‘‘अगर बड़ों की बात मानी गई होती तो आज प्रदेश में सपा की सरकार होती और अखिलेश मुख्यमंत्री होते और बिहार में भी सपा सरकार बनी होती. इसलिए हमारी नीचे स्तर तक के पदाधिकारियों के लिए यही सलाह है कि आपस में सभी एकजुट रहें और लोगों को भी एकजुट करें.’’

यह भी पढ़ें : यूपी : शिवपाल यादव से मिले योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर, सियासत गरमाई

शिवपाल ने अखिलेश द्वारा बसपा से गठबंधन की कोशिशों के औचित्य से संबंधित सवाल पर कहा कि वह पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की सूझबूझ पर कोई सवाल नहीं उठाना चाहते. वह पार्टी के हित में सभी लोगों को एकजुट रखना चाहते हैं और वह हमेशा से सपा के लिए समर्पित हैं.

इस सवाल पर कि क्या वह सपा में हाशिये पर पहुंच गए हैं, पूर्व मंत्री ने कहा कि अगर वह हाशिये पर होते तो उनके पीछे जनता नहीं होती. वह अब भी जब कहीं जाते हैं तो बड़ी संख्या में लोग उन्हें बिना बताए पहुंच जाते हैं.

Newsbeep

VIDEO : होली पर मिले शिवपाल-अखिलेश

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि पिछले साल अखिलेश के मुख्यमंत्रित्व काल में हुए विधानसभा चुनाव से ऐन पहले सरकार और संगठन पर वर्चस्व के लिए सपा में दो गुट बन गए थे. इनमें से एक गुट अखिलेश का था, जबकि दूसरे गुट की अगुआई शिवपाल कर रहे थे.
(इनपुट भाषा से)