Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उत्तर प्रदेश: शिवपाल को चुनाव लड़ने के लिए मिली 'चाबी', कांग्रेस से दोस्ती के लिए तैयार

शिवपाल ने कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ने को तैयार हैं. हालांकि कांग्रेस से अभी खुलकर उन्हें संकेत नहीं मिला है. सपा और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के गठबंधन को शिवपाल ने 'ठगबंधन' करार दिया.

उत्तर प्रदेश: शिवपाल को चुनाव लड़ने के लिए मिली 'चाबी', कांग्रेस से दोस्ती के लिए तैयार

शिवपाल यादव (फाइल फोटो)

खास बातें

  • सपा से अलग होकर शिवपाल यादव ने बनाई थी अपनी पार्टी
  • प्रगतिशील समाजवादी पार्टी-लोहिया (प्रसपा-लो) को चुनाव चिन्ह आवंटित
  • उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के साथ गठबंधन करने को तैयार
नई दिल्ली:

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया बनाने वाले शिवपाल सिंह यादव को चुनाव आयोग ने चुनाव चिन्ह चाबी आवंटित कर दिया है. इस शिवपाल ने आयोग को धन्यवाद भी दिया है, जिसके बाद उन्होंने तैयारियां को और पुख्ता करते हुए पार्टी की राज्य कार्यकारिणी पदाधिकारियों की सूची भी जारी कर दी थी. शिवपाल ने कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ने को तैयार हैं. हालांकि कांग्रेस से अभी खुलकर उन्हें संकेत नहीं मिला है. सपा और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के गठबंधन को शिवपाल ने 'ठगबंधन' करार देते हुए कहा कि यह गठबंधन पैसों के लिए किया गया है. उन्होंने गठबंधन से पहले पैसों के लेन-देन का भी आरोप लगाया है.

यूपी में सपा-बसपा गठबंधन के बाद शिवपाल यादव ने कांग्रेस को दिया यह ऑफर, कहा- मैं तैयार हूं

शिवपाल ने कहा कि कांग्रेस भी एक सेक्युलर पार्टी है और अगर वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को हराने के लिए हमसे संपर्क करती है तो हम उसका समर्थन करेंगे. शिवपाल ने कहा, "हमारे बिना कोई भी गठबंधन बीजेपी को हरा नहीं सकता है."शिवपाल ने कहा कि वर्ष 1993 में जब सपा-बसपा का गठबंधन हुआ था, उस वक्त दोनों ही पार्टियों पर कोई आरोप नहीं था और ना ही सीबीआई का कोई डर था. उन्होंने कहा कि आज तो सीबीआई का ही डर है. इस डर की वजह से यह गठबंधन हो रहा है.

शिवपाल यादव की पार्टी में BJP क्यों लगाएगी पैसा, आरोप के पीछे मायावती की मंशा क्या है?

गौरतलब है कि 12 जनवरी को एसपी-बीएसपी ने औपचारिक ऐलान किया कि दोनों पार्टियां यूपी की 38-38 लोकसभा सीटों पर मिलकर चुनाव लड़ेंगी. 

Video: मुलायम सिंह यादव के जन्मदिन पर जश्न