फर्जी सिपाही बनकर DM ऑफिस में करता था 'ड्यूटी', लोगों से ऐंठता था पैसे, पुलिस ने फिर ऐसे दबोचा

उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने फर्जी सिपाही बनकर धोखे से आला अफसरों के यहां ड्यूटी के नाम पर अनुचित लाभ लेने के आरोपी एक युवक को गिरफ्तार किया है.

फर्जी सिपाही बनकर DM ऑफिस में करता था 'ड्यूटी', लोगों से ऐंठता था पैसे, पुलिस ने फिर ऐसे दबोचा

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने फर्जी सिपाही बनकर धोखे से आला अफसरों के यहां ड्यूटी के नाम पर अनुचित लाभ लेने के आरोपी एक युवक को गिरफ्तार किया है. एसटीएफ के सूत्रों ने मंगलवार को बताया कि ऐसी सूचना मिली थी कि खुद को सिपाही बता रहा एक संदिग्ध व्यक्ति वर्दी पहनकर गोरखपुर में सक्रिय है. जांच-पड़ताल में पता चला कि वह व्यक्ति गोरखपुर की खजनी तहसील के उपजिलाधिकारी के यहां सिपाही बनकर ड्यूटी कर रहा है. मौके पर पहुंची एसटीएफ की टीम ने सोमवार को उसे गिरफ्तार कर लिया.

प्रदूषण पर सांसद कितने गंभीर? संसद में चर्चा के दौरान 100 से भी कम थे मौजूद, AAP के इकलौते MP भगवंत मान भी रहे गैरहाजिर

पकड़े गये अभियुक्त ने अपना नाम अजय कुमार चतुर्वेदी बताया है. उसने यह भी खुलासा किया कि वह सिपाही नहीं है. उसने वर्ष 2014 में संत कबीर नगर जिले की घनघटा तहसील के तत्कालीन उपजिलाधिकारी से सम्पर्क करके बताया कि वह सिपाही है और पुलिस लाइन में उसकी उनके दफ्तर में सुरक्षा ड्यूटी लगी है. उसके बाद वह वहां 'ड्यूटी' करने लगा. इस दौरान किसी ने भी उसकी पड़ताल नहीं की. अभियुक्त के मुताबिक वह उपजिलाधिकारी कार्यालय में फरियाद लेकर आने वाले लोगों से काम कराने के लिये धन ऐंठता था.

चतुर्वेदी के मुताबिक साल 2015 में उन उपजिलाधिकारी का तबादला सिद्धार्थनगर जिले में हो गया तो वह वहां भी उनके कार्यालय में उसी तरह काम करने लगा. जब लोगों को उसकी सच्चाई का पता लगा तो वह वहां से भाग गया. वर्ष 2017 में इसी तरह फैजाबाद की रुदौली तहसील के उपजिलाधिकारी दफ्तर में भी पैठ बनायी. मगर वहां उसकी पोल खुल गयी और फरवरी 2018 में उसे गिरफ्तार कर लिया गया. इस मामले में वह जमानत पर है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

साथी खिलाड़ी से मारपीट मामले में बांग्लादेश के पूर्व तेज गेंदबाज शहादत हुसैन पर 5 साल का बैन

उसके बाद मार्च 2019 में वह फिर खजनी के उपजिलाधिकारी कार्यालय में आ गया और सिपाही की तरह काम करने लगा, जहां वह फिर गिरफ्तार हो गया. सूत्रों ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)