NDTV Khabar

यूपी चुनाव: पीएम नरेंद्र मोदी के भाषण के वे 5 शब्द, जिससे Twitter पर मचा हंगामा

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
यूपी चुनाव: पीएम नरेंद्र मोदी के भाषण के वे 5 शब्द, जिससे Twitter पर मचा हंगामा

इस बार के चुनाव प्रचार में सपा, बीजेपी, बीएसपी और कांग्रेस जैसे बड़े दलों के नेताओं ने भी भाषण में शब्दों की गरीमा का ख्याल नहीं रखा.

खास बातें

  1. मेरठ में पीएम मोदी ने SCAM का बताया फुलफॉर्म.
  2. पीएम मोदी ने खुद को बताया यूपी का गोद लिया हुआ बेटा.
  3. कब्रिस्तान, श्मशान वाले बयान पर जमकर लोगों ने किया कमेंट.
नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रचार का शोरगुल थम चुका है. 11 मार्च को वोटों की गिनती के बाद पता चल जाएगा कि यूपी की जनता किसे सरकार बनाने का मौका देगी और किसे विपक्ष की अहम जिम्मेदारी सौंपेगी. वोटरों को लुभाने के लिए इस बार के चुनाव प्रचार में सपा, बीजेपी, बीएसपी और कांग्रेस जैसे बड़े दलों के नेताओं ने भी भाषण में शब्दों की गरिमा का ख्याल नहीं रखा. नेताओं की जुबान से निकले इन कथित विवादित शब्दों पर सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर भी खूब बहस देखने को मिली. इस बार के चुनाव प्रचार में विपक्षी दलों पर हमले के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कुछ ऐसे शब्दों का प्रयोग किया, जिन पर लोग काफी तादाद में रिएक्ट करते दिखे. आइए, यूपी चुनाव में प्रधानमंत्री के उन भाषणों पर नजर डालें, जिन पर ज्यादा संख्या में ट्विटर यूजरों ने कमेंट किए.

1. SCAM का बताया फुलफॉर्म: मेरठ की रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्कैम (SCAM) यानी घोटाले का नया अर्थ बताया. मोदी ने कहा था, 'ये चुनाव बीजेपी की स्कैम के खिलाफ लड़ाई है. S से समाजवादी, C से कांग्रेस, A से अखिलेश और M से मायावती.' पीएम मोदी के भाषण के बाद अखिलेश यादव, राहुल गांधी, मायावती, डिंपल यादव सहित ट्विटर पर यूजर्स अपने-अपने हिसाब से SCAM की परिभाषा गढ़ते देखे गए.

2. यूपी मेरा माईबाप है: अखिलेश यादव और मायावती लगातार अपने भाषणों में पीएम मोदी और अमित शाह को बाहरी बता रहे थे. इसके जवाब में पीएम मोदी ने हरदोई की रैली में कहा, 'मैं यूपी से सांसद बना और यहां पर मिली जीत से देश को स्थाई सरकार मिली और गरीब मां का बेटा पीएम बना. उन्होंने कहा कि यूपी ने मुझे गोद लिया है. यूपी मेरा माईबाप है. मैं माईबाप को नहीं छोडूंगा. मैं भले ही गोद लिया हूं, लेकिन यूपी की चिंता है मुझे... यहां की स्थिति बदलना मेरा कर्तव्य है. इस कर्तव्य को निभाने के लिए मुझे लोगों का आशीर्वाद चाहिए.' पीएम मोदी का यह भाषण ट्विटर पर खूब ट्रेंड हुआ. लोग उनके पुराने भाषणों को निकालकर बता रहे थे कि पीएम जिस जगह जाते हैं, वहीं से खुद का नाता जोड़ लेते हैं.

3. गांव में कब्रिस्तान है तो श्मशान भी होना चाहिए: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समाजवादी सरकार पर धर्म और जाति के आधार पर विकास करने का आरोप लगा रहे थे. फतेहपुर की रैली में पीएम ने कहा, 'रमजान में बिजली आती है तो दिवाली में भी आनी चाहिए. भेदभाव नहीं होना चाहिए. यदि कब्रिस्तान है तो श्मशान भी होना चाहिए.  ईद और होली दोनों के मौके पर बिजली आनी चाहिए. किसी भी सूरत में भेदभाव नहीं होना चाहिए.' पीएम मोदी के इन शब्दों के बाद ट्विटर और फेसबुक पर जहां कुछ लोग उन्हें सही साबित करने में लगे रहे तो कई पीएम को वोट के लिए इस तरह का बयान देने से बचने की सलाह देते दिखे.
UP election 2017, Narendra modi
वाराणसी में रोड शो करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी.

टिप्पणियां
4. राजनीतिक बाहुबलियों के लिए जनता बनेगी कटप्पा: पीएम मोदी ने मऊ की रैली में बीएसपी के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी की तरफ इशारा करते हुए कहा, 'यहां बाहुबलियों को टिकट भी दी जाती है. कोई भी बाहुबली जेल जाता है, तो मुस्कुराता हुआ जाता है. क्योंकि अपराधियों को जेल में सारा सुख, वैभव और जेल से अपना गिरोह चलाने के बावजूद उन्हें सुरक्षा मिल जाती है.' मोदी ने फिल्‍म 'बाहुबली' का जिक्र करते हुए कहा कि, 'एक वो कटप्‍पा था जिसने बाहुबली का सब खत्म कर दिया था.  रैली के दौरान मंच पर छड़ी लिए खड़े व्‍यक्ति की तरफ इशारा करते हुए कहा, ये छड़ी वही कटप्‍पा है जो सभी बाहुबलियों को खत्म करेगा. बाहुबलियों के लिए ये कानून का डंडा है. पीएम के इस भाषण के बाद ट्विटर #katapa ट्रेंड करने लगा था.

5. 'कुछ का साथ, कुछ का विकास': वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सपा, बसपा और कांग्रेस ने राजनीति के कल्चर को बदला है. उनके मुताबिक 'कुछ का साथ, कुछ का विकास' ही एकमात्र मकसद होता है. जबकि लोकतंत्र में 'सबका विकास और सबका साथ' दोनों ही जरूरी हैं और बीजेपी इसी मूलमंत्र को लेकर चल रही है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement