'प्यार हो जाने से पढ़ा नहीं, मोहब्बत का तक़ाज़ा है पास कर दीजिए...'

यूपी बोर्ड की 12वीं कक्षा के इम्तिहान की कॉपियों में किसी ने प्यार का वास्ता देकर तो किसी ने गरीबी का हवाला देकर पास करने की अपील की

'प्यार हो जाने से पढ़ा नहीं, मोहब्बत का तक़ाज़ा है पास कर दीजिए...'

12वीं की परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं में पास करने के निवेदन के साथ नोट रखे हुए भी मिल रहे हैं.

खास बातें

  • स्कैच बनाकर लिखा-आई लव माई पूजा...लव स्टोरी ने पढ़ाई से दूर कर दिया
  • एक छात्र ने लिखा- फेल हुआ तो मेरे पापा मुझे मार डालेंगे…सॉरी सर
  • पिता जी बचपन में गुज़र गए, सारी ज़िम्मेदारी मेरे ऊपर, पास कर दीजिए
लखनऊ:

यूपी बोर्ड में 12वें दर्जे के इम्तिहान की कॉपियों में बच्चे पास होने के लिए एग्ज़ामिनर से तरह-तरह की अपील कर रहे हैं…एक स्टूडेंट ने तो लिखा है कि वह पढ़ने में बहुत तेज़ था, लेकिन इस बार प्यार हो जाने की वजह से पढ़ नहीं पाया....इसलिए मोहब्बत का तक़ाज़ा है कि उसे पास कर दिया जाए.

इम्तिहान की कॉपियों की जांच हो रही हैं, बच्चों की मेहनत रंग लाएगी. लेकिन कुछ चाहते हैं कि बिना मेहनत उन्हें पास किया जाए. इसकी वजहें भी दिलचस्प हैं. एक छात्र ने दिल में लगे तीर का स्कैच बनाकर लिखा है.. “आई लव माई पूजा...सर इस लव स्टोरी ने पढ़ाई से दूर कर दिया…वरना हाईस्कूल तक खूब पढ़ाई की…प्लीज़ पास कर दीजिए..यह लिखने के लिए सर वेरी-वेरी सॉरी. यह मोहब्बत भी क्या चीज़ है, न जीने देती है, न मरने…दुआ कीजिए की वो न मिले तो मैं मर ही जाऊं.”

एक छात्र ने लिखा है - ''सर पास कर देना…मेरी मां नहीं है…फेल हुआ तो मेरे पापा मुझे मार डालेंगे…सॉरी सर.” एक अन्य छात्र ने लिखा है …”घर के हालात ठीक नहीं थे…पिता जी बचपन में गुज़र गए. सारी ज़िम्मेदारी मेरे ऊपर आ गई...इसलिए रेगुलर पढ़ नहीं सका…पास करने की कृपा कीजिए.''

लखनऊ कीं परीक्षक मीना सहाय ने बताया कि ''ऐसा होता है. हर 5-6 कॉपी के बाद में, मतलब लिखा हुआ मिल जाता है. गर्ल्स अपने हिसाब से लिखती हैं कि मेरी शादी होने वाली है. मैं फेल हो जाऊंगी तो मेरी शादी नहीं हो पाएगी.और ब्वाय अपने हिसाब से लिखते हैं कि मेरी फैमिली वाले बहुत गरीब हैं पास हो जाऊंगा तो मुझे नौकरी मिल जाएगी. प्लीज़ पास कर दीजिए इस बार. इस तरीक़े का होता है.''

इम्तिहान की कॉपियों में रुपये मिलने का सिलसिला भी जारी है…बच्चों को लगता है कि रुपये रख देने से टीचर ज़रूर पास कर देंगे. परीक्षक राजीव कुमार ने बताया कि ''मेरे और मेरे काई साथियों को कॉपियों में नोट मिले हैं. मुझे 100 रुपये मिले हैं. मेरे साथी को 50 मिले हैं. और भी कई के पास निकले हैं.  इससे ऐसा लगता है कि बच्चों ने पढ़ा-लिखा तो नहीं है, लेकिन पैसे रखकर लालच देना चाहते हैं कि शायद टीचर उन्हें पास कर दे.'' जब उनसे पूछा गया कि क्या आप लालच में आ रहे हैं? तो उन्होंने कहा कि बिल्कुल नहीं आ रहे हैं, कोई नहीं आ रहा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO : यूपी में नकल के कारोबार पर रोक

कहते तो यही हैं कि “मोहब्बत और जंग में सब कुछ जायज़ है”…और जब सब कुछ जायज़ है तो आशिक़ स्टूडेंट का इतना तो हक़ बनता ही है कि मोहब्बत का वास्ता देकर बिना पढ़े-लिखे पास करने की गुज़ारिश करे.