NDTV Khabar

योगी सरकार का फरमान, विधान भवन और सचिवालय में मोबाइल फोन लाने की इजाजत नहीं

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बृहस्पतिवार को कहा कि विधान भवन और सचिवालय से सम्बद्ध सभी भवनों में किसी बाहरी व्यक्ति को मोबाइल फोन लेकर आने की इजाजत नहीं होनी चाहिए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
योगी सरकार का फरमान, विधान भवन और सचिवालय में मोबाइल फोन लाने की इजाजत नहीं

सीएम योगी आदित्यनाथ ने सभी सभागारों के भी नामकरण के भी निर्देश दिए

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बृहस्पतिवार को कहा कि विधान भवन और सचिवालय से सम्बद्ध सभी भवनों में किसी बाहरी व्यक्ति को मोबाइल फोन लेकर आने की इजाजत नहीं होनी चाहिए. साथ ही उन्होंने इन भवनों में सभी सेवाओं के सुचारु संचालन के लिए कार्ययोजना पेश करने को भी कहा है. मुख्यमंत्री ने कहा कि लोक भवन के सभी सभागारों या सभाकक्षों का नामकरण किया जाए और नामकरण ऐसा हो, जो लोगों को प्रभावित और प्रेरित करे. उन्होंने विधान भवन, लोक भवन आदि के आसपास लगे होर्डिंग, बैनर, पोस्टर आदि हटाने और सुरक्षा और साफ-सफाई की व्यवस्था को पुख्ता किये जाने के निर्देश दिये हैं. 

निजी विश्वविद्यालयों के लिए लाए गए कानून को लेकर मायावती का योगी सरकार पर हमला, Tweet कर कही यह बात...

योगी आज यहां लोक भवन में सचिवालय प्रशासन विभाग की समीक्षा कर रहे थे. समीक्षा के बाद जारी एक बयान में कहा गया कि सचिवालय में ई-ऑफिस व्यवस्था पर समीक्षा के दौरान अपर मुख्य सचिव (सचिवालय प्रशासन) महेश कुमार गुप्ता ने अवगत कराया कि 25 विभागों में 95 प्रतिशत कार्य ई-ऑफिस के माध्यम से किया जा रहा है. शेष कार्यालयों में ई-ऑफिस व्यवस्था लागू की जा रही है. योगी ने कहा कि उन्होंने पूर्व में सचिवालय सहित सभी जनपदीय कार्यालयों में ई-ऑफिस व्यवस्था लागू करने के निर्देश दिये थे. उन्होंने कहा कि सभी विभागों और कार्यालयों में ई-ऑफिस व्यवस्था को शीघ्रता और तत्परता से लागू किया जाए. 


टिप्पणियां

योगी आदित्यनाथ और मोहन भागवत पर टिप्पणी करना हार्ड कौर को पड़ा भारी, FIR दर्ज

पिछले साल तीन निजी सचिवों की गिरफ्तारी के प्रकरण की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि भ्रष्ट, दागी, संदिग्ध गतिविधि में लिप्त और शासन की मंशा के प्रतिकूल आचरण करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों की सूची तैयार कर कार्रवाई की जाए. उन्होंने कहा कि सभी कर्मियों के सेवा सम्बन्धी मामलों का समयबद्ध निस्तारण सुनिश्चित किया जाए, समस्या का समाधान मेरिट के आधार पर किया जाए. और कर्मियों के वेतन, मानदेय आदि का नियमित और समयबद्ध भुगतान सुनिश्चित किया जाए. मुख्यमंत्री ने कहा कि सचिवालय के सभी कार्यालयों में सभी दस्तावेजों को व्यवस्थित और सुरक्षित रखने की व्यवस्था की जाए. 
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement