यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ इस 'खतरनाक वहम' की परवाह किए बिना जाएंगे नोएडा...

योगी को नोएडा न जाने की सलाह इसलिए दी गई है, क्योंकि कई पूर्ववर्ती मुख्यमंत्री नोएडा जाकर अपनी कुर्सी गंवा चुके हैं.

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ इस 'खतरनाक वहम' की परवाह किए बिना जाएंगे नोएडा...

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ एक अंधविश्वास की परवाह किए बिना 25 दिसंबर को नोएडा जाएंगे.

लखनऊ:

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ नोएडा न जाने का वहम तोड़कर 25 दिसंबर को पीएम मोदी की आगवानी करने के लिए नोएडा जाएंगे. पिछले 28 सालों में नोएडा जाने वाले वे यूपी के दूसरे सीएम होंगे. यहां यह वहम है कि जो मुख्यमंत्री नोएडा जाता है, उसकी कुर्सी चली जाती है. इस वहम में यकीन रखने वाले अभी भी यही कह रहे हैं.

उत्तर प्रदेश सरकार अपने विरोध में उठने वाली आवाजों का दमन करना चाहती है : माकपा

नोएडा दिल्ली के बगल में यूपी का एक शानदार इलाका है…लेकिन कुर्सी चले जाने के वहम के चलते यूपी का कोई सीएम नोएडा नहीं जाता. अब 25 दिसंबर को नोएडा में पीएम मेट्रो का उद्घाटन करेंगे और सीएम योगी उनकी आगवानी. बीजेपी कहती है कि योगी वहम में यकीन नहीं रखते. स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि “मैं इतना ही कहूंगा कि मुख्यमंत्री जी अंधविश्वास में विश्वास नहीं करते हैं और 24X7 काम करने वाला ऐसी चीजों में यकीन कर भी नहीं सकता. इसलिए वे नोएडा जा रहे हैं.”

यूपी में सियासी वहम तो बहुत सारे हैं लेकिन नोएडा का वहम सबसे बड़ा है. पिछले 28 साल से यूपी के सीएम नोएडा के हर प्रोजेक्ट का उद्घाटन लखनऊ से करते रहे हैं. 1989 में एनडी तिवारी नोएडा गए…उनकी कुर्सी चली गई. राजनाथ सिंह ने 2001 में नोएडा फ्लाईओवर का उद्घाटन दिल्ली छोर से किया. साल 2006 में मुलायम के सीएम रहते निठारी कांड हुआ…आंदोलन हुआ…सरकार हिल गई, लेकिन नोएडा नहीं गए…2011 में मायावती नोएडा गईं तो उनकी कुर्सी चली गई. अखिलेश यादव कभी नोएडा नहीं गए. नोएडा से गुजरने वाले यमुना एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन भी लखनऊ से किया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO : गुजरात और हिमाचल के नतीजों ने साबित किया पीएम मोदी का नेतृत्व यशस्वी है: योगी आदित्यनाथ


इस वहम में यकीन रखने वालों ने नोएडा जाने के बाद योगी की कुर्सी जाने की भी भविष्यवाणी कर दी है. कांग्रेस एमएलए अजय कुमार उर्फ लल्लू कहते हैं कि  “कोई भी व्यक्ति कहीं जाता है तो मुहूर्त निकालकर जाता है. या तो उन्होंने नोएडा जाने का मुहूर्त निकाला है जो शुभ आया है, तभी जा रहे हैं वरना नोएडा जाने के बाद उनकी भी कुर्सी चली जाएगी.”