NDTV Khabar

त्रिपुरा के सीएम के बाद अब यूपी के उपमुख्यमंत्री का विवादित बयान- महाभारत काल में ही शुरू हो गई थी पत्रकारिता

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि इतना ही नहीं मोतियाबिंद का ऑपरेशन, प्लास्टिक सर्जरी, गुरुत्वाकर्षण सिद्धांत, परमाणु परीक्षण और इंटरनेट जैसी तमाम आधुनिक प्रक्रियाएं पौराणिक काल में ही शुरू हुई थीं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
त्रिपुरा के सीएम के बाद अब यूपी के उपमुख्यमंत्री का विवादित बयान- महाभारत काल में ही शुरू हो गई थी पत्रकारिता

दिनेश शर्मा की फाइल फोटो

खास बातें

  1. उपमुख्यमंत्री ने कहा नारद मुनि गूगल की तरह काम करते थे
  2. हिन्दी पत्रकारिता पर आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे उपमुख्यमंत्री
  3. इससे पहले त्रिपुरा के सीएम भी दे चुके हैं महाभारत को लेकर बयान
नई दिल्ली:

बीजेपी शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्री और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं द्वारा विवादित बयान देने का सिलसिला थम नहीं रहा है. पहले त्रिपुरा के सीएम ने महाभारत काल में इंटरनेट के होने की बात कहकर सुर्खियां बंटोरी थी, वहीं अब उत्तर-प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने महाभारत काल से पत्रकारिता की शुरुआत की बात कहकर नया विवाद खड़ा कर दिया है. उन्होंने कहा कि पौराणिक पात्रों ‘संजय’ और ‘नारद’ को वर्तमान समय में सीधे प्रसारण और गूगल से जोड़कर देखा जा सकता है. दिनेश शर्मा ने यह बात हिंदी पत्रकारिता दिवस पर आयोजित एक समारोह में यह बात कही.

यह भी पढ़ें: बिप्लब के फिर 'बिगड़े बोल' : डायना हेडन इंडियन ब्यूटी नहीं, उनकी जीत फिक्स थी


उन्होंने कहा कि भारत में तो पत्रकारिता सदियों पूर्व महाभारत के काल में ही शुरू हो गई थी. उपमुख्यमंत्री ने कहा कि इतना ही नहीं मोतियाबिंद का ऑपरेशन, प्लास्टिक सर्जरी, गुरुत्वाकर्षण सिद्धांत, परमाणु परीक्षण और इंटरनेट जैसी तमाम आधुनिक प्रक्रियाएं पौराणिक काल में ही शुरू हुई थीं. दिनेश शर्मा अपने संबोधन में कहा कि महाभारत काल में युद्ध के दौरान संजय द्वारा धृतराष्ट्र को महल में बैठे-बैठे युद्ध के मैदान का आंखों देखा हाल सुनाया जाता था.

यह भी पढ़ें: त्रिपुरा सीएम बिप्लब कुमार देब ने कहा, दिमाग की जांच कराएं ममता बनर्जी

यह आज के समय टीवी पर होने वाला सीधा प्रसारण (लाइव टेलीकास्ट) नहीं है तो और क्या है. आज जिस गूगल को आप लोग हर विषय के जानकार के रूप में जानते हैं, महाभारत काल में यह काम नारद मुनि करते थे. वह कभी भी, कहीं भी पहुंच जाते थे और हर समस्या का समाधान कर देते थे. वह भी केवल तीन बार नारायण-नारायण, बोलकर.

टिप्पणियां

वह पल भर में ही कोई भी संदेश कहीं भी पहुंचा देते थे. उन्होंने कहा कि हमें अपने गौरवशाली अतीत को कभी नहीं भूलना चाहिए. इस मौके पर उप मुख्यमंत्री ने देश में प्रेस की आजादी की सराहना की और कहा कि सरकारों को मीडिया के लोगों की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार होना चाहिए. (इनपुट भाषा से) 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement