उत्तर प्रदेश : परिवार की देखभाल करने में नाकाम रहने पर शख्स ने किया सुसाइड, नोट में Lockdown को ठहराया जिम्मेदार

मृतक भानू मैगलगंज का रहने वाला था और शाहजहांपुर में एक होटल पर काम करता था. लॉकडाउन के बाद से भानू लंबे समय से घर पर ही था.

उत्तर प्रदेश : परिवार की देखभाल करने में नाकाम रहने पर शख्स ने किया सुसाइड, नोट में Lockdown को ठहराया जिम्मेदार

उत्तर प्रदेश में एक शख्स ने किया सुसाइड

लखनऊ :

उत्तर प्रदेश  के लखीमपुर खीरी जिले में शुक्रवार को एक 50 वर्षीय शख्स ने आत्महत्या कर ली है. व्यक्ति का शव मैगलगंज रेलवे स्टेशन पर पड़ा मिला. व्यक्ति के पास एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है, जिसमें उसने अपनी मौत के लिए कोरोनावायरस (Coronavirus) की वजह से लगे लॉकडाउन को जिम्मेदार ठहराया है. रेलवे ट्रैक पर पड़े शव की पहचान भानू प्रताप गुप्ता नाम के शख्स के रूप में हुई है. भानू की जेब से मिले सुसाइड नोट में उन्होंने अपनी गरीबी और बेरोजगारी का जिक्र किया है. 

मृतक भानू मैगलगंज का रहने वाला था और शाहजहांपुर में एक होटल पर काम करता था. लॉकडाउन के बाद से भानू लंबे समय से घर पर ही था. भानू की आर्थिक स्थिति भी ठीक नहीं थी. भानू की तीन बेटियां और एक बेटा है और घर पर बूढ़ी मां और बीमारी का बोझ भी था. जिसका जिक्र उसने अपने सुसाइट नोट में किया है. 

भानू की जेब से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है जिसमे उसने लिखा है कि राशन की दुकान से उसको गेहूं चावल तो मिल जाता था लेकिन ये सब नाकाफी था. शक्कर चायपत्ती, दाल, सब्जी, मसाले जैसी रोजमर्रा की चींजे अब परचून वाला भी उधार नहीं देता. मैं और मेरी विधवा मां लम्बे समय से बीमार हैं. गरीबी के चलते तड़प-तड़प कर जी रहे हैं. शासन प्रसाशन से भी कोई सहयोग नहीं मिला. गरीबी का आलम ये है कि मेरे मरने के बाद मेरे अंतिम संस्कार भर का भी पैसा मेरे परिवार के पास नहीं है. लॉकडाउन बढ़ता जा रहा है.

उत्तर प्रदेश सरकार ने मृतक भानू के परिवार का सहयोग करने का वादा किया है. लखीमपुर खीरी के जिलाधिकारी शैलेंद्र सिंह ने बताया, "हम शुरुआती जांच की है. मृतक के पास राशन कार्ड है और कोटा के अनुरूप उन्हें इस महीने अनाज दिया गया था. इसलिए अनाज की कोई किल्लत नहीं थी. हम आत्महत्या के कारणों की जांच करेंगे. हमें सुसाइड नोट मिला है."

kehk404g

इस घटना पर कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने सुसाइड नोट शेयर करते हुए ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा- "एक दुखद घटना में यूपी के भानु गुप्ता ने ट्रेन के सामने आकर आत्महत्या कर ली. काम बंद हो चुका था. इस शख्स को अपना और माता जी का इलाज कराना था. सरकार से केवल राशन मिला था लेकिन इनका पत्र कहता है और भी चीजें तो खरीदनी पड़ती हैं और भी जरूरतें होती हैं. ये पत्र शायद आज एक साल के जश्न वाले पत्र की तरह ‘गाजे बाजे के साथ'आपके पास न पहुंचे. लेकिन इसको पढ़िए जरूर.  हिन्दुस्तान में बहुत सारे लोग आज इसी तरह कष्ट में हैं."

3mjh568g

(आत्‍महत्‍या किसी समस्‍या का समाधान नहीं है. अगर आपको सहारे की जरूरत है या आप किसी ऐसे शख्‍स को जानते हैं जिसे मदद की दरकार है तो कृपया अपने नजदीकी मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञ के पास जाएं.)

हेल्‍पलाइन नंबर:

AASRA: 91-22-27546669 (24 घंटे उपलब्ध)

स्‍नेहा फाउंडेशन: 91-44-24640050 (24 घंटे उपलब्ध)

वंद्रेवाला फाउंडेशन फॉर मेंटल हेल्‍थ: 1860-2662-345 और 1800-2333-330 (24 घंटे उपलब्ध)

iCall: 022-25521111 (सोमवार से शनिवार तक उपलब्‍ध: सुबह 8:00 बजे से रात 10:00 बजे तक)

एनजीओ: 18002094353 दोपहर 12 बजे से रात 8 बजे तक उपलब्‍ध)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com