मायके से ससुराल पहुंचने में हुई 10 मिनट की देरी तो पति ने फोन पर ही दे डाला 'ट्रिपल तलाक'

एटा की महिला को कथित तौर पर घर समय पर नहीं आने की वजह से उसके पति ने फोन पर ही तीन तलाक दे दिया. 

मायके से ससुराल पहुंचने में हुई 10 मिनट की देरी तो पति ने फोन पर ही दे डाला 'ट्रिपल तलाक'

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  • समय पर घर नहीं पहंचने पर मिला तीन तलाक.
  • उत्तर प्रदेश के एटा की है यह घटना.
  • महिला ने सरकार से मदद की गुहार लगाई है.
नई दिल्ली:

इंस्टैट ट्रिपल तलाक (तीन तलाक) बिल के लोकसभा में पास होने के बाद अब उत्तर प्रदेश में एक ऐसा मामला सामने आया है कि एक महिला के पति ने फोन पर उसे महज इस बात के लिए तलाक दे दिया, क्योंकि उसे घर पहुंचने में 10 मिनट की देरी हो गई. दरअसल, एटा की महिला को कथित तौर पर घर समय पर नहीं आने की वजह से उसके पति ने फोन पर ही तीन तलाक दे दिया. 

तीन तलाक अध्यादेश फिर जारी करने के प्रस्ताव को कैबिनेट की मंजूरी, 22 जनवरी को खत्म हो रही थी मियाद

पीड़ित महिला ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा कि उसने अपने पति से वादा किया था कि वह तीस मिनट के भीतर लौट आएगी, मगर ऐसा नहीं करने पर उसे तुंरत तलाक दे दिया गया. महिला ने कहा कि 'मैं अपनी दादी मां को देखने अपने मायके गई थी. मेरे पति ने आधे घंटे के भीतर आने को कहा था. मैं दस मिनट लेट हो गई. उसके बाद उन्होंने मेरे भाई के मोबाइल पर फोन किया और तीन बार 'तलाक-तलाक-तलाक' कहा. उनकी इस हरकत से मैं पूरी तरह से टूट गई.'

तीन तलाक बिल पर बीजेपी और जेडीयू में मतभेद, कांग्रेस ने कहा- एनडीए छोड़ दें नीतीश, नहीं तो अस्तित्व हो जाएगा खत्म

पीड़ित महिला ने यह भी आरोप लगाया कि उसके ससुराल वाले उसे पीटते हैं. उसका कहना है कि शादी के समय दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर वे लोग अक्सर उसे पीटते रहते हैं. उसने कहा कि 'जब मैं घर पर होती हूं तो वे मुझे पीटा करते हैं. उनकी इन्ही हरकतों की वजह से एक बार मेरा गर्भपात भी हुआ है. मेरा परिवार काफी गरीब है. यही वजह है कि मेरे पति के परिवार को देने के लिए यह कुछ भी सक्षम नहीं हैं.'

Triple Talaq Bill पर NDA के साथ नहीं जेडीयू, BJP ने वोट बैंक की राजनीति बताया तो कांग्रेस ने ली चुटकी

महिला ने इस मामले में सरकार से ममद की गुहार लगाई है. महिला ने आगे कहा कि 'अब यह सरकार की जिम्मेवारी है कि वह मुझे न्याय दिलाए नहीं तो मैं खुदकुशी कर लूंगी.'

तीन तलाक के मुद्दे पर जेडीयू का एनडीए सरकार को समर्थन नहीं, जानिए- असहमति क्यों

एटा के क्षेत्राधिकारी अजय भदौरिया ने आश्वासन दिया है कि वह इस मामले की जांच करेंगे और इस मामले के समधान के लिए उचित कदम उठाएंगे. बता दें कि 27 दिसंबर को लोकसभा में तीन तलाक बिल को पास कर दिया गया था. इसके तहत तीन साल कैद की सजा के प्रावधान किया गया था. 

VIDEO: पीएम मोदी ने कहा, तीन तलाक धार्मिक आस्था का विषय नहीं

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com