झांसी पहुंची श्रमिक एक्सप्रेस के टॉयलेट में मिला प्रवासी मजदूर का शव, जेब से मिले 28 हजार रुपये

उत्तर प्रदेश के झांसी रेलवे स्टेशन पर खड़ी श्रमिक स्पेशल ट्रेन के शौचालय में गुरुवार को 38 वर्षीय प्रवासी मजदूर का शव मिला है

झांसी :

उत्तर प्रदेश के झांसी रेलवे स्टेशन पर खड़ी श्रमिक स्पेशल ट्रेन के शौचालय में गुरुवार को 38 वर्षीय प्रवासी मजदूर का शव मिला है. शव के पास मिले कागजात से मृतक की पहचान उत्तर प्रदेश के बस्ती निवासी मोहन लाल शर्मा के रूप में हुई है. शर्मा मुंबई में दिहाड़ी मजदूरी करता था. वह खुद से मुंबई से झांसी पहुंचा था, जहां प्रशासन ने प्रवासी मजदूरों को रोक लिया था. 23 मई को इन प्रवासी मजदूरों को गोरखपुर जाने वाली ट्रेन में बिठा दिया गया था. . 

बुधवार 27 मई को यह ट्रेन झांसी लौटी थी. गुरुवार को रेलवे कर्मचारी इसे अगली यात्रा के लिए सैनिटाइज कर रहे थे. इसी दौरान उन्हें बाथरुम में मोहन लाल शर्मा का शव मिला. उन्होंने तुरंत अधिकारियों को इस बारे में जानकारी दी. मोहन लाल शर्मा के परिवार में शामिल कन्हैया लाल शर्मा ने बताया कि झांसी पुलिस ने ग्राम प्रधान को फोन कर मोहन लाल की मौत की सूचना दी. मोहन लाल अपने साथ 28 हजार रुपये नकद, साबुन और कुछ किताबें लेकर आए थे. मुंबई में काम नहीं मिलने के बाद मोहनलाल ने वापस झांसी आने का फैसला किया था. 

गोरखपुर की ट्रेन में बैठने के बाद मोहन लाल शर्मा ने अपने एक रिश्तेदार से फोन पर बात की थी और उसे 24 मई को गोरखपुर रेलवे स्टेशन पर मिलने के लिए भी कहा था. 24 मई को रिश्तेदार गोरखपुर रेलवे स्टेशन पहुंचे, लेकिन मोहन लाल शर्मा से मुलाकात नहीं हो पाई, उन्होंने मोहन लाल शर्मा का मोबाइल नंबर पर संपर्क करने की कोशिश की लेकिन वह स्वीच ऑफ था. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

मोहन लाल शर्मा ने 23 मई को झांसी से गोरखपुर की यात्रा की थी, कोविड-19 की जांच के बाद ही वह ट्रेन पर चढ़े थे और यात्रा के दौरान किसी भी तरह की मेडिकल सहायता की मांग नहीं की गई थी. रेलवे के अनुसार ट्रेन खाली वापस आई थी, और सैनिटाइजेशन प्रक्रिया के दौरान शव मिला था. रेलवे ने बिना देरी किए कदम उठाए थे. लिहाजा बिना फैक्ट चेक, अफवाहें न फैलाएं. 

वहीं झांसी पुलिस ने बताया कि शव को पोस्टमार्टम और कोविड जांच के लिए भेजा गया है, रिपोर्ट आने के बाद इसे परिवारजनों को सौंप दिया जाएगा.