यूपी: बंदूक तान हाथ ऊपर कराकर, वाहनों की चेकिंग करते हैं पुलिसवाले, VIDEO सामने आया तो दिया अजीब लॉजिक

समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक वजीरगंज में बगेन पुलिस चौकी पर शूट किए गए वीडियो में चौकी प्रभारी राहुल कुमार सिसोदिया वहां से गुजरने वाले लोगों को धमकाते हुए दिख रहे हैं.

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें पुलिसकर्मियों को सड़क से गुजरने वाले लोगों पर बंदूक तानते हुए दिखाया गया. इतना ही नहीं, बल्कि उनके वाहन की जांच के दौरान उन्हें ऊपर हाथ करने के लिए भी मजबूर किया गया. समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक वजीरगंज में बगेन पुलिस चौकी पर शूट किए गए वीडियो में चौकी प्रभारी राहुल कुमार सिसोदिया वहां से गुजरने वाले लोगों को धमकाते हुए दिख रहे हैं.

वीडियो में देखा जा सकता है कि एक पुलिस अधिकारी वहां से निकल रहे लोगों पर बंदूक तानकर उन्हें चेतावनी देते हुए दिख रहा है. एएनआई द्वारा जारी वीडियो में पुलिस अधिकारी को कहते हुए सुना जा सकता है, 'अपने हाथों को ऊपर उठाएं. अपने पैरों को खोलें. यदि आप अपने हाथों को नीचे करते हैं, तो आपको गोली मार दी जाएगी. फिर यह मत कहना कि आपको गोली मार दी गई. आपको गोली मार दी जाएगी.'

यूपी के मुजफ्फरनगर में थाने के मालखाने से गायब हो गई सर्विस रिवॉल्वर, मचा हड़कंप

आईएएनएस के मुताबिक स्थानीय लोगों का दावा है कि अब पुलिस इसी तरीके से नियमित रूप से वाहनों की चैकिंग करती रहती है. एक के मुताबिक पुलिस महिलाओं को भी नहीं बख्शती. राज कुमार अग्रवाल ने बताया, 'अगर आप गाड़ी चला रहे हैं और पुलिस वाले आपको रोकना चाहते हैं, तो वे हाथ में बंदूक लेकर ऐसा करेंगे. यह तरीका आम आदमी के लिए बहुत ही डराने वाला और अपमानजनक है. वाहन अगर महिला चला रही है, तब भी पुलिस उसे नहीं बख्शती.'

यूपी पुलिस का नया कारनामा, थाने से पिस्तौल के बाद गायब हो गईं शराब की 486 पेटियां

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि क्षेत्र में अपराध पर नजर रखने के लिए बंदूक तानी जाती है. एक पुलिस अधिकारी के हवाले से आईएएनएस ने लिखा है, 'बदायूं अपराध काफी है और हम अपनी बंदूकें बाहर रखते हैं क्योंकि आप नहीं जानते कि कब कौनसे वाहन में अपराधी आ जाएं. हमें तैयार रहना होता है.'

सड़क नियम तोड़ने पर 1 दिन में कटा 305 पुलिसकर्मियों का चालान, वसूले गए 1.38 लाख

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बदायूं एसएसपी अशोक त्रिपाठी ने कहा कि यह एक रणनीति है. एएनआई ने उनके हवाले से लिखा है, 'पहले भी ऐसी घटनाएं हुई हैं जहां आपराधिक मानसिकता के लोगों ने वाहन चेकिंग के दौरान पुलिस पर गोलीबारी की. हमें इस तरह की घटनाओं के कारण हताहतों का सामना करना पड़ा है. यही कारण है कि इस तकनीक का उपयोग किया जा रहा है.' डीजीपी ने कहा कि इस मामले में जांच की जाएगी, जरूरत हुई तो कार्रवाई की जाएगी. 

गी के आरोपी को पुलिस ने उसकी पसंद की शानदार जगह पर कराया लंच, छह पर गिरी गाज