NDTV Khabar

फेसबुक पर दोस्ती कर ठगी करने वाले नाईजीरियाई गिरोह का भंडाफोड़, एक गिरफ्तार

एसटीएफ सूत्रों ने बताया कि पिछले साल 18 मार्च को बेंगलुरू में सुजाता नामक महिला ने मार्क पावेल उर्फ मोरेल नामक व्यक्ति के खिलाफ फेसबुक पर दोस्ती करके उससे करीब पांच लाख 65 हजार रुपये की ठगी करने का मामला दर्ज कराया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
फेसबुक पर दोस्ती कर ठगी करने वाले नाईजीरियाई गिरोह का भंडाफोड़, एक गिरफ्तार

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

लखनऊ: उत्तर प्रदेश पुलिस के विशेष कार्यबल (एसटीएफ) ने फेसबुक पर फर्जी प्रोफाइल बनाकर लोगों से राष्ट्रीय स्तर पर ठगी करने वाले नाईजीरियाई गिरोह का आज पर्दाफाश करते हुए उसके एक सदस्य को गिरफ्तार कर लिया. एसटीएफ सूत्रों ने बताया कि पिछले साल 18 मार्च को बेंगलुरू में सुजाता नामक महिला ने मार्क पावेल उर्फ मोरेल नामक व्यक्ति के खिलाफ फेसबुक पर दोस्ती करके उससे करीब पांच लाख 65 हजार रुपये की ठगी करने का मामला दर्ज कराया था. मामले की छानबीन में पता लगा कि वारदात में इस्तेमाल किया गया बैंक खाता गाजियाबाद का है. इसके बाद एसटीएफ ने बेंगलुरू पुलिस से प्राप्त खुफिया सूचनाएं साझा कीं. इसी बीच, यह खबर मिली कि मार्क पावेल शुक्रवार को अपने एक मित्र से मिलने दिल्ली आएगा. एसटीएफ टीम और दिल्ली पुलिस ने सुबह पुल प्रहलादपुर के लाल कुआं इलाके में उसे गिरफ्तार कर लिया.

पूछताछ में पावेल ने बताया है कि उसके गिरोह के लोग भारत में ही रहकर फेसबुक पर फर्जी आईडी बनाते और लोगों को दोस्ती का झांसा देकर फेसबुक मैसेंजर से ही बात करते हैं ताकि लोगों को यह पता ना लग पाये कि वे भारत से बोल रहे हैं.

उसने यह भी बताया कि उसके गिरोह के सदस्य धोखाधड़ी से मिलने वाली रकम जमा कराने के लिए ज्यादातर पूर्वोत्तर राज्यों के लोगों के बैंक खातों का इस्तेमाल करते हैं क्योंकि उनके नाम विदेशियों से मिलते जुलते हैं. वे जिसका खाता इस्तेमाल करते हैं, उसे 10 प्रतिशत कमीशन भी देते हैं और सारा पैसा एटीएम से तुरन्त निकाल लेते हैं. वे सभी मोबाइल फोन सिमकार्ड फर्जी आईडी पर लेते हैं. सूत्रों ने बताया कि गिरोह द्वारा इस्तेमाल किये जा रहे बैंक खातों की विस्तृत जानकारी, फोन रिकॉर्ड, एवं फेसबुक मैसेंजर की चैट डिटेल भी फेसबुक से मंगवायी जा रही है.

टिप्पणियां
पूछताछ के दौरान यह बात भी संज्ञान में आयी है कि बड़ी संख्या में नाईजीरियाई युवक एवं युवतियां इसी तरीके से सैकड़ों लोगों को ठगी का शिकार बना रहे हैं और इसमें कुछ भारतीय लड़कियों को भी कमीशन के आधार पर अपने नेटवर्क में रखे हुए हैं. उन्होंने बताया कि गिरफ्तार अभिुयक्त पावेल के पास से बरामद दोनों पासपोर्ट दक्षिण अफ्रीका और नाईजीरिया से जारी किये गये हैं. उनकी भी जांच की जा रही है. इस गिरोह के अन्य सदस्यों की भी गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे हैं.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement