NDTV Khabar

सीएम योगी के प्रमुख सचिव पर रिश्वत मांगने का आरोप लगाने वाला पकड़ा गया

पुलिस ने व्यापारी अभिषेक गुप्ता को धोखाधड़ी के आरोप में हिरासत में लिया, अज्ञात स्थान पर की जा रही पूछताछ

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सीएम योगी के प्रमुख सचिव पर रिश्वत मांगने का आरोप लगाने वाला पकड़ा गया

व्यापारी अभिषेक गुप्ता ने आरोप लगाया है कि उससे सीएम के प्रमुख सचिव ने 25 लाख रुपये की रिश्वत मांगी थी.

खास बातें

  1. प्रमुख सचिव शशि गोयल पर 25 लाख की घूस मांगने का आरोप लगाया
  2. गुप्ता ने राज्यपाल राम नाइक को लिखा पत्र, सोशल मीडिया पर हुआ लीक
  3. पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने की मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग
लखनऊ:

यूपी पुलिस ने सीएम योगी आदित्यनाथ के प्रमुख सचिव शशि गोयल पर 25 लाख की घूस मांगने का आरोप लगाने वाले व्यापारी अभिषेक गुप्ता को धोखाधड़ी के आरोप में हिरासत में ले लिया है.

अभिषेक ने 18 अप्रैल को राज्यपाल राम नाइक को एक पत्र लिखकर आरोप लगाया था कि उसने हरदोई में पेट्रोल पंप लगाने के लिए ज़मीन खरीदी थी. लेकिन उसकी ज़मीन के सामने ग्राम समाज की सरकारी ज़मीन है. वह चाहते है कि वह उतनी ही अपनी ज़मीन सरकार को दे दे और सरकार ग्राम समाज की ज़मीन उसके नाम लिख दे. लेकिन जो ग्राम समाज की जमीन जो वह चाहते हैं, रिज़र्व केटेगरी की है इसलिए वह शासन में उच्च स्तर से ही उन्हें ट्रांसफर की जा सकती है. अभिषेक ने आरोप लगाया है कि मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव शशि गोयल जमीन उसे ट्रांसफर करने के लिए उससे 25 लाख रुपये की घूस मांग रहे थे.

यह भी पढ़ें : पूर्व प्रिंसिपल को घूस लेने के मामले में ढाई साल की सजा


राज्यपाल राम नाइक ने अभिषेक का शिकायती खत सीएम योगी आदित्यनाथ को 30 अप्रैल को फॉरवर्ड कर दिया था, जो कल कहीं से सोशल मीडिया पर लीक हो गया. इसके बाद कल रातोंरात अभिषेक के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो गई. बीजेपी मुख्यालय के प्रभारी भारत दीक्षित ने एफआईआर में कहा है कि अभिषेक अपने निजी काम के लिए बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं के नाम का इस्तेमाल कर मुख्यमंत्री दफ़्तर के आला अफसरों पर दबाव डाल रहा है.

टिप्पणियां

VIDEO : आला अफसर पर आरोप

इसके बाद पुलिस ने अभिषेक को उसके घर से हिरासत में ले लिया और किसी अज्ञात जगह ले जाकर पूछताछ कर रही है. इस बीच इस मुद्दे पर सियासत शुरू हो गई है. पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने इस मामले की सीबीआई जांच की मांग की है. कैबिनेट मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव के बचाव में उतर आए हैं. उन्होंने कहा कि ”एसपी गोयल ने मुलायम सिंह, मायावती और अखिलेश यादव के साथ काम किया है. अगर उनमें कोई कमी होती तो पिछले 25 सालों में ज़रूर दिखती. बिना किसी सबूत किसी के आरोप लगाने पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का बयान दुर्भाग्यपूर्ण है.”



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement