उत्तर प्रदेश: कोरोना वायरस का आंकड़ा पहुंचा 2053 पर, 66 नए मामले आए सामने, तीन की हुई मौत

स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त सचिव डा. विकासेंदु अग्रवाल द्वारा मंगलवार शाम जारी बयान में कहा गया, ‘मंगलवार को 66 नए कोरोना संक्रमित मामले प्रकाश में आए इस तरह प्रदेश के 60 जिलों में संक्रमित रोगियों की संख्या बढ़कर 2053 हो गई है.

उत्तर प्रदेश: कोरोना वायरस का आंकड़ा पहुंचा 2053 पर, 66 नए मामले आए सामने, तीन की हुई मौत

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  • राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के 66 नए मामले सामने आए
  • राज्य में कोविड-19 से संक्रमण का मामला बढ़कर 2053 पर पहुंच गया
  • तीन व्यक्तियों की मौत के साथ ही मरने वालों का आंकड़ा 34 पहुंच गया
लखनऊ:

उत्तर प्रदेश में मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 66 नए मामले सामने आए, जिसके बाद राज्य में कोविड-19 से संक्रमण का मामला बढ़कर 2053 पर पहुंच गया. वहीं तीन व्यक्तियों की मौत के साथ ही मरने वालों का आंकड़ा 34 पहुंच गया है. स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त सचिव डा. विकासेंदु अग्रवाल द्वारा मंगलवार शाम जारी बयान में कहा गया, ‘मंगलवार को 66 नए कोरोना संक्रमित मामले प्रकाश में आए इस तरह प्रदेश के 60 जिलों में संक्रमित रोगियों की संख्या बढ़कर 2053 हो गई है. दो रोगियों की मौत आगरा में जबकि एक व्यक्ति की मौत कानपुर में हुई है.' उन्होंने बताया सबसे ज्यादा संक्रमित मामले आगरा से 17, वाराणसी से 12, कानपुर नगर से आठ, मुरादाबाद तथा लखनऊ से पांच पांच हैं। डा. अग्रवाल ने बताया कि मंगलवार को 64 रोगी ठीक हो गए और प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण से ठीक होने वाले लोगो का आंकड़ा 462 पहुंच गया है.

इससे पहले प्रमुख सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने बातचीत में कहा कि कहा कि संक्रमण का सबसे बडा स्रोत 'मेडिकल इन्फेक्शन' निकलकर आ रहा है. अस्पतालों में डाक्टर और नर्स संक्रमित हो रहे हैं और उनसे अन्य लोगों में संक्रमण जा रहा है. 'प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इसके प्रति अत्यंत सजग हैं और इसे लेकर चिन्ता भी व्यक्त की है. कई जनपदों से हेल्थकेयर स्टाफ के संक्रमित होने के प्रकरण सामने आए हैं.' उन्होंने बताया कि प्रदेश के सभी 75 जिलों में अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी के नेतृत्व में समितियों का गठन कर लिया गया है, जिनमें डाक्टर, आईएमए, डब्ल्यूएचओ और यूनिसेफ के प्रतिनिधि, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी और क्वालिटी कंसल्टेंट शामिल हैं.

Maharashtra में कोरोना के 729 नए मामले आए सामने, संक्रमितों की संख्या पहुंची 9318

प्रसाद ने बताया कि सभी समितियों से कहा गया है कि मंडलीय मुख्यालयों के जनपद कम से कम दस अस्पतालों और अन्य जिलों के कम से कम पांच अस्पतालों की सूची बनाकर उनके एक एक नोडल अधिकारी को कल प्रशिक्षण देंगे कि मेडिकल इन्फेक्शन के प्रोटोकाल का पालन कैसे करना है. उन्होंने बताया कि नोडल अधिकारी अपने अपने अस्पताल के अन्य डाक्टरों और पैरा मेडिकल स्टाफ को प्रशिक्षण प्रदान करेंगे. ये प्रशिक्षण बुधवार को हो जाएगा ताकि 30 अप्रैल से ये अस्पताल प्रोटोकाल का पालन करते हुए आकस्मिक एवं आवश्यक चिकित्सा सुविधाएं दें जिससे हेल्थकेयर स्टाफ भी संक्रमण से बचे रहे और लोगों को सुविधाएं मिलती रहें.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यूपी: मां के शरीर में 'जान फूंकने' की कोशिश करता रहा बेटा, अस्पताल में डॉक्‍टर दिखे नदारद

प्रसाद ने बताया कि अन्य चिकित्सालय, जो प्रशिक्षण पाना चाहेंगे, उन्हें भी पांच मई तक प्रशिक्षित कर दिया जाएगा. प्रमुख सचिव ने बताया कि मुख्यमंत्री ने ये निर्देश भी दिया है कि एल-1 अस्पतालों में पृथक बेड की संख्या बढाई जाए. उस क्रम में अस्थायी अस्पताल भी बनाए जा रहे हैं. कुछ का चिन्हांकन हो गया है और आज शाम तक उन्हें अधिसूचित कर देंगे. हम मंगलवार शाम तक एल-1 अस्पतालों में 8000 बेड की औेर बढोतरी कर लेंगे. दस हजार से ज्यादा बेड तैयार पहले से हैं.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)