UP Coronavirus: यूपी में कोरोना से एक दिन में सबसे अधिक 57 मौतें और रिकॉर्ड 3,705 नए केस आए सामने

UP Coronavirus: उत्तर प्रदेश में बीते 24 घंटे के दौरान कोरोनावायरस संक्रमण के 3,705 नए मामले सामने आए, जबकि 57 और मौतों के साथ इस संक्रमण से जान गंवाने वालों का आंकड़ा गुरुवार को 1,587 हो गया.

UP Coronavirus: यूपी में कोरोना से एक दिन में सबसे अधिक 57 मौतें और रिकॉर्ड 3,705 नए केस आए सामने

यूपी में एक दिन में कोरोना से 57 मौतें, अबतक का सबसे ज्यादा आंकड़ा. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  • UP में एक दिन में हुईं सबसे ज्यादा मौतें
  • कोरोनावायरस के नए 3,705 मामले सामने आए
  • राज्य में अब तक 1,500 से ज्यादा लोगों की संक्रमण से मौत
लखनऊ:

Uttar Pradesh Coronavirus Updates:उत्तर प्रदेश में बीते 24 घंटे के दौरान कोरोनावायरस संक्रमण के 3,705 नए मामले सामने आए, जबकि 57 और मौतों के साथ इस संक्रमण से जान गंवाने वालों का आंकड़ा गुरुवार को 1,587 हो गया. प्रदेश में मौत के 57 मामले किसी एक दिन में मृतकों का सबसे बड़ा आंकड़ा है. संक्रमण के 3,705 मामलों का आंकड़ा भी एक दिन में सर्वाधिक है. अपर मुख्य सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 3,705 नए मामले सामने आए जबकि 57 लोगों की मौत हो गई.

प्रसाद ने बताया कि अब तक कुल 46,803 लोग पूरी तरह होकर अस्पतालों से घर जा चुके हैं. करा रहे मरीजों की संख्या 32,649 है जबकि कोरोना संक्रमण की वजह से कुल 1,587 लोगों की जान गई है. उन्होंने बताया कि आइसोलेशन वार्डों में 32,652 लोग हैं, जिनका विभिन्न चिकित्सालयों एवं मेडिकल कालेजों में उपचार किया जा रहा है. क्वारंटीन सेंटरों पर 2,938 लोग हैं, जिनके नमूने लेकर जांच के लिए भेजे गए हैं.

यह भी पढ़ें: कोरोनावायरस से एक कदम आगे रहना चाहते हैं यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, ये है प्लान

अपर मुख्य सचिव ने बताया कि इलाज हो रहे मामलों में से 7,198 लोग होम-आइसोलेशन में हैं जबकि 1,112 लोग निजी अस्पताल में इलाज करा रहे हैं. उन्होंने कहा कि जब से होम आइसोलेशन की व्यवस्था शुरू की गई है, तब से बहुत से लक्षणमुक्त रोगी इसका लाभ उठा रहे हैं .

प्रसाद ने बताया कि जो समय से संक्रमण की जांच करा लेते हैं और समय से अपना इलाज शुरू करा लेते हैं, उन्हें इस संक्रमण से कोई परेशानी नहीं देखी जा रही है लेकिन जो बीमारी छिपाते हैं, लक्षण आने के बाद भी जांच नहीं कराते, जो बहुत विलंब से आते हैं, उनमें जटिलताएं पैदा होती हैं और कभी-कभी किसी मरीज की मृत्यु भी हो जाती है . उन्होंने ठीक हो चुके लोगों से अनुरोध किया कि वे अन्य लोगों को इस बीमारी के बारे में समझाएं.

यह भी पढ़ें: कोरोनावायरस: उत्तर प्रदेश में अब फेस मास्क न पहनने पर 500 रुपये जुर्माना

प्रसाद ने बताया कि बुधवार को प्रदेश में 88,967 नमूने जांचे गए, जिनमें से 51,484 एंटीजन टेस्ट थे. अब तक 22,09,810 नमूनों की जांच की जा चुकी है. जांच शुरू होने से 24 जून तक चार महीने में छह लाख नमूनों की जांच हुई थी. 24 जून से 30 जुलाई के बीच लगभग पांच सप्ताह में 16 लाख नमूनों की जांच हुई है. जांच को निरंतर बढ़ाया जा रहा है .

उन्होंने बताया कि पूल टेस्टिंग के माध्यम से बुधवार को पांच-पांच नमूनों के 2,963 पूल लगाए गए, जिनमें से 661 लोग संक्रमित पाए गए, जबकि दस-दस नमूनों के 196 पूल लगाए गए, जिनमें से 27 लोग संक्रमित मिले. अपर मुख्य सचिव ने बताया कि सर्विलांस का कार्य निरंतर चल रहा है. कुल 39,578 क्षेत्रों में यह कार्य किया गया और 1,44,87,398 घरों का सर्विलांस हुआ. आरोग्य सेतु ऐप के माध्यम से जिन लोगों को अलर्ट आए, ऐसे 5,19,783 लोगों को फोन कर सावधान किया जा चुका है.

Video: देस की बात: यूपी में सरकार के दावों के बावजूद भी हालात पर काबू क्यों नहीं?


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com