NDTV Khabar

उत्‍तर प्रदेश सरकार ने माघ पूर्णिमा एवं संत रविदास जयंती को सार्वजनिक अवकाश घोषित किया

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में माघ पूर्णिमा को कुंभ में पवित्र स्नान है. संत रविदास जयंती पर पूर्व में प्रतिबंधित अवकाश था, जिसे अब सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
उत्‍तर प्रदेश सरकार ने माघ पूर्णिमा एवं संत रविदास जयंती को सार्वजनिक अवकाश घोषित किया

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ.

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश सरकार ने मंगलवार को माघ पूर्णिमा और संत रविदास जयंती के मौके पर सार्वजनिक अवकाश घोषित किया है. प्रमुख सचिव जितेन्द्र कुमार की ओर से जारी आदेश में कहा गया कि 19 फरवरी को माघ पूर्णिमा और संत रविदास जयंती के मौके पर सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया है. उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में माघ पूर्णिमा को कुंभ में पवित्र स्नान है. संत रविदास जयंती पर पूर्व में प्रतिबंधित अवकाश था, जिसे अब सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया है. 

बता दें, महान निर्गुण संत कबीर के समकालीन गुरु रविदासजी का जन्म सन 1388 में बनारस में हुआ था. हालांकि कुछ विद्वान मानते हैं कि उनका प्रादुर्भाव सन 1398 में हुआ. वे रैदास के नाम से भी जाने जाते हैं. रविदासजी के जमाने में दिल्ली में सिकंदर लोदी का शासन था. कहते हैं सिकंदर लोदी ने उनकी ख्याति से प्रभावित होकर उन्हें दिल्ली आने का निमंत्रण भेजा था, लेकिन उन्होंने बड़ी विनम्रता से ठुकरा दिया.

कुंभ में विदेशी यात्रियों की बढ़ी संख्या, 70 देशों से संगम में डुबकी लगाने आ रहे हैं लोग


मध्ययुगीन साधकों में रविदासजी का विशिष्ट स्थान है. संत साहित्य में चर्चा मिलती है कि रविदासजी कबीर की तरह ही उच्च कोटि के प्रमुख संत कवियों में विशिष्ट स्थान रखते हैं. स्वयं कबीरदास जी ने 'संतन में रविदास' कहकर इन्हें मान्यता दी है.

संत रविदासजी आडम्बर और बाह्याचार के घोर विरोधी थे. वे मूर्तिपूजा, तीर्थयात्रा आदि में बिल्कुल यकीन नहीं करते थे. वे व्यक्ति की निश्छल भावना और आपसी भाईचारे को ही सच्चा धर्म मानते थे. यही कारण है कि रविदासजी की काव्य-रचनाओं में सरलता के साथ व्यावहारिकता का समर्थन मिलता है.

(इनपुट: भाषा)

अमित शाह, सीएम योगी के बाद अब पीएम मोदी भी लगाएंगे संगम में डूबकी, 19 फरवरी को जा सकते हैं कुंभ

टिप्पणियां

VIDEO- कुंभ में पहुंचे देश भर से लाखों श्रद्धालु

 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement