Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

...तो क्या अब फैजाबाद का नाम भी बदल जाएगा? विहिप ने योगी सरकार से की यह मांग

विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज किए जाने पर खुशी जाहिर करते हुए फैजाबाद का नाम बदलने की मांग की है.

...तो क्या अब फैजाबाद का नाम भी बदल जाएगा? विहिप ने योगी सरकार से की यह मांग

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ. (फाइल फोटो)

लखनऊ:

विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज किए जाने पर खुशी जाहिर करते हुए फैजाबाद का नाम बदलने की मांग की है. विहिप की ओर से कहा गया है कि लोगों की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए फैजाबाद जिले का नाम बदलकर 'श्री अयोध्या' किया जाए. विहिप प्रवक्ता शरद शर्मा ने कहा कि 'योगी सरकार ने इलाहाबाद का नाम प्रयागराज करके संतों की मांग का सम्मान किया है. यह कदम स्वागत योग्य है, जैसे सरकार ने इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किया है, उसी तरह फैजाबाद का नाम भी बदलकर 'श्री अयोध्या' कर देना चाहिए.'

यह भी पढ़ें : 444 साल पहले मुगल बादशाह अकबर ने प्रयागराज बदलकर दिया था इलाहाबाद नाम, पढ़ें 5 खास बातें
 
उन्होंने कहा कि, 'आज देश में अनेक सड़कें, भवन, जनपद, गुलामी का बोध कराते आ रहे हैं. देश को अंग्रेज दासता से मुक्ति जरूर प्राप्त हुई है परन्तु उनके प्रतीक आज भी हर हिन्दुस्तानी के स्वाभिमान को ठेस पहुंचाते हैं. वर्तमान सरकारें भावनाओं को समझें और भविष्य की पीढ़ी को इन गुलामी के प्रतीकों से मुक्ति दिलाएं.' शर्मा ने कहा कि योगी सरकार दीपावली पर दीपोत्सव महोत्सव के दौरान साधु संतों के समक्ष नाम बदलने की घोषणा कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें : #AajSeTumharaNaam: यूपी सरकार ने इलाहाबाद का नाम किया प्रयागराज तो लोग बनाने लगे सीएम योगी के ऐसे Memes

गौरतलब है कि इस सप्ताह मंगलवार को उत्तर प्रदेश कैबिनेट ने ऐतिहासिक शहर इलाहाबाद का नाम प्रयागराज करने का प्रस्ताव किया था जिसको कैबिनेट से पास कर दिया था. कैबिनेट बैठक के बाद मंगलवार को राज्य सरकार के प्रवक्ता एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा था कि प्रयागराज नाम रखे जाने का प्रस्ताव कैबिनेट की बैठक में आया, जिसे मंजूरी प्रदान कर दी गई. ऋगवेद, महाभारत और रामायण में प्रयागराज का उल्लेख मिलता है. उन्होंने कहा था कि सिर्फ वह ही नहीं बल्कि समूचे इलाहाबाद की जनता, साधु और संत चाहते थे कि इलाहाबाद को प्रयागराज के नाम से जाना जाए. जब मुख्यमंत्री ने कुंभ से संबंधित एक बैठक की अध्यक्षता की थी, तो उन्होंने खुद ही प्रस्ताव किया था कि इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किया जाना चाहिए. सभी साधु संतों ने सर्वसम्मति से इस प्रस्ताव पर मुहर लगाई थी.

VIDEO : मुकाबला: सरकार बदलते ही क्यों बदलते हैं नाम?

योगी सरकार के फैसले पर सपा मुखिया अखिलेश यादव ने कहा था कि ये लोग पुन: नामकरण करके ही अपना कार्य दिखाना चाहते हैं. कांग्रेस प्रवक्ता ओंकार सिंह ने कहा था कि जिस क्षेत्र में कुंभ होता है, उसे प्रयागराज ही कहा जाता है और अगर सरकार इतनी ही उतावली है तो एक अलग नगर बसा सकती है, लेकिन इलाहाबाद का नाम नहीं बदला जाना चाहिए.

(इनपुट : भाषा)