NDTV Khabar

योगी सरकार के मंत्री खुलकर उतरे पुलिस अफसरों के विरोध में, बोले- नहीं छोड़ूंगा किसी दोषी को

लखनऊ में विवेक तिवारी हत्याकांड को कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने पुलिस का अकल्पनीय घृणित कार्य बताया है. कहा है कि पुलिस इस केस में लीपापोती की कोशिश कर रही है,

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
योगी सरकार के मंत्री खुलकर उतरे पुलिस अफसरों के विरोध में, बोले- नहीं छोड़ूंगा किसी दोषी को

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की फाइल फोटो.

खास बातें

  1. विवेक तिवारी मर्डर से सवालों में घिरी उत्तर प्रदेश पुलिस
  2. कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने पुलिस की भूमिका पर उठाए सवाल
  3. कहा- केस में लीपापोती करने वाले किसी अफसर को छोडे़ंगे नहीं
लखनऊ:

यूपी की राजधानी लखनऊ में एप्पल कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी की हत्याकांड ने तूल पकड़ लिया है. अब सरकार के मंत्री भी पुलिस की कार्यप्रणाली को लेकर हमलावर हो चुके हैं. कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने घटना को अकल्पनीय घृणित बताया है. कहा है कि पुलिस इस केस में लीपापोती की कोशिश कर रही है, मगर किसी  दोषी अफसर को बख्शा नहीं जाएगा. ब्रजेश पाठक ने सवाल किया कि क्या कार न रोकने पर सभी कार चालकों को यूपी पुलिस गोली विवेक की तरह गोली मारती है. ब्रजेश पाठक ने कहा कि हत्यारे सिपाहियों को पुलिस ने गोद में उठाया. उनकी जगह सिर्फ जेल होनी चाहिए. 

कानून मंत्री ने पत्रकारों से बातचीत में पुलिस की हरकत को गंदा करार देते हुए कहा कि हत्याकांड में पुलिस ने पूरी तरह लापरवाही बरती. विवेक तिवारी के साथ मौजूद रही सना खान को नजरबंद रखा गया. सादे कागज पर हस्ताक्षर कराए गए. सही से केस भी हीं लिखा. पुलिस का रवैया काफी दुखद रहा. मगर मैं पूरी जिम्मेदारी से कहता हूं कि दोषी अफसरों को छोड़ा नहीं जाएगा. ब्रजेश पाठक ने कहा कि वह इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलेंगे और दोषी अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करेंगे. इस मामले की फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई के लिए भी प्रयास होगा. 


टिप्पणियां

क्या है मामला

विवेक तिवारी के साथ कार में मौजूद महिला ने की ओर से दर्ज करायी गयी रिपोर्ट के मुताबिक  शुक्रवार/शनिवार की रात करीब दो बजे वह अपने सहकर्मी विवेक तिवारी (38) के साथ कार से घर जा रही थीं. रास्ते में गोमतीनगर विस्तार इलाके में सामने से दो पुलिसकर्मी आये तो तिवारी ने गाड़ी आगे बढ़ाने की कोशिश की. इस दौरान एक सिपाही कार की हल्की चपेट में आ गया. सना के मुताबिक पुलिसकर्मियों ने कार को रोकने की कोशिश की और उनमें से एक ने गोली चलायी, जो तिवारी को लगी. इसके कारण बेकाबू हुई कार अंडरपास की दीवार से जा टकरायी. हादसे में गम्भीर रूप से घायल तिवारी को अस्पताल पहुंचाया गया, जहां थोड़ी देर बाद उसकी मृत्यु हो गई.
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement