NDTV Khabar

हमें विरासत में मिली थीं गड्ढायुक्त सड़कें : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

सीएम ने कहा कि सेंट्रल रोड फंड से 700 करोड़ मिलते हैं, लेकिन अब यूपी को 1000 करोड़ रुपए मिल पाएंगे.

9 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
हमें विरासत में मिली थीं गड्ढायुक्त सड़कें : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. जब हम सत्ता में आए तो 1,21,000 किलोमीटर सड़कें विरासत में गड्ढायुक्त मिली
  2. कहा, यहां सड़कों के निर्माण का समय से और मानकों के अनुरूप होना चाहिए.
  3. 84,000 किलोमीटर सड़कों को 15 जून तक गड्ढामुक्त किए जाने का काम किया गया.
लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 'जब हम सत्ता में आए तो 1,21,000 किलोमीटर सड़कें विरासत में गड्ढायुक्त मिलीं, जिनमें से 15 जून तक 84000 किलोमीटर सड़कें गड्ढा मुक्त हुई हैं. हमने तय किया था कि उत्तर प्रदेश की सभी सड़कों को गड्ढामुक्त करेंगे.'  योगी शुक्रवार को राजधानी लखनऊ के बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय में लोक निर्माण विभाग द्वारा आयोजित दो दिनी 'लखनऊ कॉन्फ्रेंस' को संबोधित कर रहे थे. 

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में इस कॉन्फ्रेंस का विशेष महत्व है. देश में रोड ट्रांसपोर्टेशन के क्षेत्र में हुए क्रांतिकारी कार्यों के लिए वह केंद्रीय मंत्री के आभारी हैं. जब तक विचारों के साथ तकनीकों का आदान-प्रदान नहीं होगा, तब तक हम विकास के लिए बेहतर प्रयास नहीं कर सकेंगे. 

यह भी पढ़ें : गुजरात में राहुल गांधी पर बरसे सीएम योगी, बोले- उनकी मंदिर यात्रा महज दिखावा

उन्होंने कहा कि यूपी बड़ा राज्य है. यहां सड़कों के निर्माण का समय से और मानकों के अनुरूप होना चाहिए. सीएम ने कहा कि सेंट्रल रोड फंड से 700 करोड़ मिलते हैं, लेकिन अब यूपी को 1000 करोड़ रुपए मिल पाएंगे. इस फंड से राजमार्ग और प्रमुख सड़कें बनाने का काम होगा.

वहीं, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि 84,000 किलोमीटर सड़कों को 15 जून तक गड्ढामुक्त किए जाने का काम किया गया. अभी और ज्यादा काम किया जाना बाकी है. उन्होंने कहा कि हम उत्तर प्रदेश को सड़कों का स्वर्ग बनाने के संकल्प के साथ काम कर रहे हैं. 

VIDEO : यूपी निकाय चुनाव में बीजेपी की जीत को बढ़ा-चढ़ाकर क्यों बताई गई ?​


लोक निर्माण मंत्री केशव ने कहा कि यह कॉन्फ्रेंस यूपी के साथ पूरे देश को सड़क निर्माण के क्षेत्र में बेहद लाभकारी होगी. वैज्ञानिक और विशेषज्ञ ही सड़क बनाने की ऐसे तकनीक तलाश कर सकते हैं, जिसमें खर्च कम आए और गुणवत्ता बेहतर हो. मौर्या ने कहा कि अब प्रदेश की हर सड़क दो लेन से कम नहीं होगी. गांवों में भी अब सिंगल लेन की दो लेन की सड़कें बनेंगी. अब हर सड़क के निर्माण और उसके पूरा होने की तिथि का विवरण वेबसाइट पर डाला जाएगा. उन्होंने कहा कि पर्यावरण को नुकसान पहुंचाए बगैर भ्रष्टाचार से मुक्त सड़कों का निर्माण कराना ही सरकार की मंशा है. 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement