NDTV Khabar

डॉन मुन्ना बजरंगी की हत्या : पत्नी ने लगाया पूर्व सांसद धनंजय सिंह पर आरोप

हत्याकांड के पीछे पश्चिमी उत्तर प्रदेश के डॉन सुनील राठी का हाथ बताया जा रहा है. ऐसे में सवाल इस बात का उठता है कि सुनील राठी और मुन्ना बजरंगी का दूर-दूर तक कहीं कोई कनेक्शन नजर नहीं आता है,

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
डॉन मुन्ना बजरंगी की हत्या : पत्नी ने लगाया पूर्व सांसद धनंजय सिंह पर आरोप

मुन्ना बजरंगी को 10 गोलियां मारी गई हैं.

खास बातें

  1. पत्नी ने दी पुलिस को तहरीर
  2. धनंजय सिंह और उनके पिता सहित 3 का नाम
  3. बागपत जेल में हुई थी हत्या
लखनऊ: उत्तर प्रदेश की बागपत जेल में मारे गये  डॉन मुन्ना बजरंगी  की पत्नी सीमा सिंह ने जौनपुर से पूर्व बाहुबली सांसद धनंजय सिंह, उनके पिता जीएन सिंह और पीके सिंह के खिलाफ तहरीर दी है. उन्होंने आरोप लगाया है कि उनके पति की हत्या के पीछे इन लोगों का हाथ है.  करीब 10 दिन अपने पति की हत्या का शक ज़ाहिर कर चुकी मुन्ना बजरंगी की पत्नी का कहना है कि हत्या में कई नेता, सरकार और पुलिस शामिल है. सीमा सिंह का आरोप है कि उनके पति की हत्या एक साजिश के तहत की गई है. एक हफ्ते पहले ही सीमा सिंह ने चेताया था कि उनके पति को जान का खतरा है. सीएम से लेकर मानवाधिकार तक को सूचित किया गया था. दरअसल, ये राजनीतिक हत्या है इसकी साजिश पूर्व सांसद धनंजय सिंह, पिके तिवारी, जयंत सिंह और मनोज सिन्हा ने रची है. इसमे सरकार और एसटीएफ के लोग भी शामिल हैं. 
 

बीएसपी सांसद धनंजय की मुश्किलें बढ़ी, महिला ने लगाया रेप का आरोप

मुन्ना बजरंगी की हत्या में इस्तेमाल पिस्तौल बरामद, दो मैगजीन और 22 कारतूस भी मिले

ब्रजेश सिंह था मुन्ना बजंरगी का सबसे बड़ा दुश्मन, फिर सुनील राठी ने क्यों मारा?

टिप्पणियां
हालांकि इस हत्याकांड के पीछे पश्चिमी उत्तर प्रदेश के डॉन सुनील राठी का हाथ बताया जा रहा है. ऐसे में सवाल इस बात का उठता है कि सुनील राठी और मुन्ना बजरंगी का दूर-दूर तक कहीं कोई कनेक्शन नजर नहीं आता है, तो क्या इस केस का रुख मोड़ने के लिये सुनील राठी का नाम लिया जा रहा है. इस हत्याकांड के पीछे की साजिश कहीं और रची गई थी. सवाल ये भी है कि आखिर 4 लेयर सिक्योरिटी के बाद भी जेल के अंदर हथियार कैसे पहुंच गया? जरूर इसमें पुलिस की भी मिलीभगत रही होगी.

बागपत जेल में अपराधी मुन्ना बजरंगी की हत्या​

गौरतलब है कि हाई सिक्योरिटी बैरक नंबर नम्बर 2 से सोमवार की सुबह 6:30 बजे जैसे ही माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी को निकाला गया, उसको जेल के अंदर ही बेहद नज़दीक से करीब 10 गोलियां मारी गयीं, जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गयी. मुन्ना बजरंगी की एक्सटॉर्शन के एक मामले में सोमवार को बागपत कोर्ट में पेशी होनी थी, वो रविवार रात 9:30 बजे 23 सुरक्षाकर्मियों के साथ झांसी की जेल से यहां आया था.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement