NDTV Khabar

पुलिसकर्मी अपनी गाड़ी से गर्भवती महिला को पहुंचा रहा था अस्पताल लेकिन रास्ते में ही हो गई डिलीवरी

प्रसूता के पिता श्यामसुंदर ने हालांकि आरोप लगाया कि 108 नम्बर पर फोन कर एंबुलेंस की मदद मांगी गई लेकिन एंबुलेंस के स्वास्थ्यकर्मियों ने कहा कि प्रसूता को लेकर सड़क पर आओ.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पुलिसकर्मी अपनी गाड़ी से गर्भवती महिला को पहुंचा रहा था अस्पताल लेकिन रास्ते में ही हो गई डिलीवरी

परिवार ने समय से एंबुलेंस न पहुंचने का आरोप लगाया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

बांदा:

देहात कोतवाली के भज्जू सिंह का पुरवा निवासी एक गर्भवती महिला ने पुलिसकर्मी की गाड़ी में ही बच्चे को जन्म दे दिया. ये पुलिसकर्मी एंबुलेंस न पहुंचने पर महिला को अपनी निजी गाड़ी से अस्पताल पहुंचा रहा था लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले ही महिला की डिलीवरी हो गई. पुलिस अधीक्षक गणेश प्रसाद साहा ने शनिवार को बताया कि देहात कोतवाली के भज्जू सिंह का पुरवा निवासी 21 वर्षीय चमेली नामक महिला अपने परिजनों के साथ बबेरू बाईपास पर शुक्रवार रात एंबुलेंस के इंतजार में प्रसव पीड़ा से कराह रही थी. उन्होंने बताया कि आधी रात तक एंबुलेंस नहीं पहुंची. उसी समय निजी चार पहिया वाहन से गुजर रहे मटौंध थाने में तैनात उपनिरीक्षक रोशन गुप्ता उन्हें लेकर अस्पताल जाने लगे लेकिन अस्पताल पहुंचने से कुछ पहले उसी वाहन में चमेली ने एक बच्चे को जन्म दे दिया. 

टिप्पणियां

हैदराबाद पुलिस का ममतामयी चेहरा : सड़क पर पर्दे लगाकर पैदा करवाया बच्चा


साहा ने बताया कि प्रसव के बाद जच्चा-बच्चा को सरकारी महिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उधर मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉ. सन्तोष कुमार ने एंबुलेंस नहीं उपलब्ध होने के मसले पर कहा कि उन्होंने जांच करा ली है. एंबुलेंस गांव तक पहुंची थी लेकिन स्वास्थ्यकर्मियों को प्रसूता नहीं मिली. प्रसूता के पिता श्यामसुंदर ने हालांकि आरोप लगाया कि 108 नम्बर पर फोन कर एंबुलेंस की मदद मांगी गई लेकिन एंबुलेंस के स्वास्थ्यकर्मियों ने कहा कि प्रसूता को लेकर सड़क पर आओ. सड़क पर करीब दो घंटे तक इंतजार करने के बाद भी एंबुलेंस नहीं आयी.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement