Women's Day : मैनपुरी की पहली महिला SDM बनीं अपूर्वा, यूपी पीसीएस में मिली 13वीं रैंक

अपूर्वा ने एनडीटीवी से कहा - मेरा एक ख्वाब हमेशा से था, सिविल सर्वेंट बनने का और अपने देश की सेवा करने का

Women's Day : मैनपुरी की पहली महिला SDM बनीं अपूर्वा, यूपी पीसीएस में मिली 13वीं रैंक

अपूर्वा यादव यूपी पीसीएस में चयनित होकर मैनपुरी की पहली महिला एसडीएम बनी हैं.

नई दिल्ली:

कहते हैं जब भाग्य साथ न दे तब यकीन कर लेना चाहिए की मेहनत जरूर साथ देगी. ऐसी ही कहानी है उत्तर प्रदेश के छोटे से शहर में पली बढ़ी अपूर्वा यादव की. वे तीन बार असफल हुईं परन्तु चौथे प्रयास में सफलता ने उनके आगे घुटने टेक दिए और वे बन गईं मैनपुरी की पहली महिला एसडीएम.

अपूर्वा की इस सफलता के पीछे की कहानी बेहद दिलचस्प है. वे शुरू से हिंदी माध्यम से पढ़ीं परन्तु इंजीनियरिंग करने के लिए उन्हें अंग्रेजी सीखनी थी. फिर क्या था वे लग गईं अपनी मंजिल पाने के लिए. टीवी के इंग्लिश प्रोग्राम देखे, नॉवेल्स पढ़े , नहीं भी आता था कोई वाक्य अंग्रेजी में तब भी वे बिना शर्म उसे बोलती थीं. उनका मानना है कि कब तक कोई चीज़ नहीं आएगी, अगर कोशिश करते  रहें तो हर चीज़ सीख सकते हैं. आखिरकार उन्होंने अंग्रेजी सीखी, इंजीनियरिंग की और टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज में तीन साल नौकरी भी की.

अपूर्वा  ने एनडीटीवी से कहा कि मेरे मन में एक ख्वाब हमेशा से पल रहा था, वह था सिविल सर्वेंट बनने का और अपने देश की सेवा का. जब उन्हें नौकरी में अमेरिका जाने का मौका मिला तब एक बार फिर उनका देश के प्रति सेवा का भाव जगा और उन्होंने देश में रहकर सिविल सर्विसेज की तैयारी का मन बना लिया और अपने सपनों को पंख देने में जुट गईं. उन्होंने सिविल सेवा परीक्षा के साथ-साथ उत्तर प्रदेश पीसीएस की तैयारी भी की. आज उन्होंने उत्तर प्रदेश पीसीएस 2016 की परीक्षा में 13वीं रैंक हासिल की है. अब वे मैनपुरी की पहली महिला SDM बन गई हैं.

 

06lkml3c

 

आज उनकी हसरत पूरी हुई. यह पल उनके माता-पिता के लिए अत्यंत गौरव का है. बेटी को इतना पढ़ाने और आगे बढ़ाने के लिए उन लोगों ने समाज के ताने भी सुने, कई दबाव भी झेले. उनसे कहा जाता था कि बेटी की अब शादी कर दो, उससे यह एग्जाम नहीं पास होगा. पर माता-पिता को बेटी की मेहनत पर यकीन था जो आज रंग लाया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह भी पढ़ें : प्राइमरी टीचर से SDM बनने का अनूठा सफर

अपूर्वा की इस सफलता पर ये कहना एक दम सही है कि अगर आप सूरज की तरह चमकना चाहते हैं तो पहले सूरज की तरह जलना होगा.