NDTV Khabar

छुट्टा पशुओं को रखने के लिये खोली जाएं गोशालाएं : योगी आदित्यनाथ

गोवंश मानव जाति के लिए किसी वरदान से कम नहीं है. जब दूध के लिए हम गोवंश पर आश्रित हैं तो हमें उनकी रक्षा भी करनी होगी. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
छुट्टा पशुओं को रखने के लिये खोली जाएं गोशालाएं : योगी आदित्यनाथ

योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. योगी ने कहा- छुट्टा पशुओं को रखने के लिए खोली जाएं गोशालाएं
  2. जब दूध के लिए हम गोवंश पर आश्रित हैं तो हमें उनकी रक्षा भी करनी होगी.
  3. उन्होंने कहा कि गोवंश मानव जाति के लिए किसी वरदान से कम नहीं है.
लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य के विभिन्न राजमार्गों तथा अन्य रास्तों पर छुट्टा गोवंशीय पशुओं के विचरण और उनके कारण होने वाले हादसों की समस्या के समाधान के लिए हर जिले में गोशालाएं खोलने के निर्देश दिए हैं. योगी ने बुधवार देर रात प्रदेश के नगर निगम वाले जिलों तथा बुन्देलखण्ड के जनपदों में गोवंशीय पशुओं के रख-रखाव के लिए कार्ययोजना बनाए जाने के सम्बन्ध में आयोजित बैठक में निर्देश देते हुए कहा कि प्रथम चरण में बुन्देलखण्ड के सात जिलों तथा 16 नगर निगम क्षेत्रों में एक हजार पशुओं के रखरखाव की क्षमता वाली गोशालाओं की स्थापना कर उनमें गोवंशीय तथा छुट्टा पशुओं को रखा जाएगा. उसके बाद अन्य जिलों में भी ऐसी गोशालाएं स्थापित की जाएंगी. 

उन्होंने कहा कि गोवंश मानव जाति के लिए किसी वरदान से कम नहीं है. जब दूध के लिए हम गोवंश पर आश्रित हैं तो हमें उनकी रक्षा भी करनी होगी. 

यह भी पढ़ें : सीएम योगी आदित्यनाथ ने 'स्टार्ट-अप बस यात्रा' को हरी झंडी दिखाई

योगी ने कहा कि गोवंशीय पशुओं के रख-रखाव के लिए गो संरक्षण समितियां बनाई जाएं, जिनमें जनता की भागीदारी भी सुनिश्चित हो. गोशालाओं के सुचारु संचालन के लिए जिलाधिकारी के नेतृत्व में समिति गठित की जाए. यह काम उत्तर प्रदेश गो सेवा आयोग के संरक्षण में सुनिश्चित किया जाए. 

मुख्यमंत्री ने कहा कि इसी तरह शहरी क्षेत्रों में भी गोवंश की सुरक्षा के लिए ऐसे केन्द्रों/गोशालाओं की स्थापना करनी होगी, जहां पर छुट्टा पशुओं को सुरक्षित रखा जा सके और उनके चारे-पानी इत्यादि की व्यवस्था हो सके. गोशालाओं के सुचारु संचालन की जिम्मेदारी गो समितियों की होगी. उन्हें अपने संसाधनों से इनका संचालन सुनिश्चित करना होगा.

योगी ने कहा कि इस कार्य में जनप्रतिनिधियों का भी सहयोग सुनिश्चित किया जाए और केन्द्र सरकार की विभिन्न नीतियों एवं कार्यक्रमों के तहत मिलने वाले सहयोग को हासिल करना भी सुनिश्चित किया जाए. उन्होंने कहा कि दवाएं बनाने के लिये गोमूत्र की काफी मांग होती है. राज्य में गोनाइल (फर्श साफ करने वाला पदार्थ) के निर्माण के लिए प्रोसेसिंग यूनिट लगाने की सम्भावनाओं को तलाशा जाए.

टिप्पणियां
VIDEOS : गोरखपुर में इस साल अब तक 1250 बच्चों की मौत​
मालूम हो कि प्रदेश के विभिन्न राजमार्गों तथा अन्य सड़कों पर इन दिनों छुट्टा गोवंशीय पशुओं की समस्या दिन-ब-दिन बड़ी होती जा रही है. सड़क पर इन जानवरों के जहां-तहां बैठने के कारण हादसे भी हो रहे हैं.(इनपुट भाषा से)

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement