NDTV Khabar

यूपी में योगी आदित्यनाथ सरकार लगातार दे रही विपक्षी दलों को झटके

समाजवादी पार्टी और बीएसपी के कुल चार एमएलसी बीजेपी के साथ, और भी नेताओं के दल बदलने की संभावना

399 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
यूपी में योगी आदित्यनाथ सरकार लगातार दे रही विपक्षी दलों को झटके

यूपी में योगी आदित्यनाथ के सत्ता में आने के बाद विपक्षी दल निरंतर कमजोर होते जा रहे हैं.

खास बातें

  1. योगी के सत्ता में आने के साथ शुरू हो गया था सपा-बसपा में नेताओं का जाना
  2. जिला स्तर पर अनेक नेता और कार्यकर्ता शामिल हो चुके हैं बीजेपी में
  3. सरकार के पांच मंत्रियों को विधान परिषद के जरिए लाने की तैयारी
नई दिल्ली: यूपी में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में बीजेपी सरकार के गठन के बाद विपक्षी दल समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी को लगातार झटके लग रहे हैं. इन पार्टियों के नेताओं का अपने-अपने दलों से मोहभग हो रहा है. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के हाल ही में यूपी के दौरे पर पहुंचने से पहले एक एमलसी ने बीएसपी का दामन छोड़ दिया. इसके साथ ही एक सप्ताह के अंदर सपा के तीन एमएलसी पार्टी को गुडबाय कहकर बीजेपी में शामिल हो गए. संभव है कि आने वाले दिनों में इन दलों के और कई नेता बीजेपी का दामन थाम लें.  

यूपी में हालांकि योगी सरकार के सत्ता में आने के साथ ही जिला स्तर पर नेताओं, कार्यकर्ताओं का सपा और बीएसपी से बीजेपी में जाने का सिलसिला शुरू हो गया था. लेकिन 29 जुलाई को बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के लखनऊ पहुंचने से चंद घंटों पहले सपा और बसपा को एक बड़ा झटका लगा. सपा के एमएलसी और प्रवक्ता बुक्कल नवाब समेत तीन एमएलसी ने विधान परिषद के सभापति रमेश यादव को अपना इस्तीफा सौंप दिया.
 
यह भी पढ़ें : अखिलेश यादव का कटाक्ष, जिसे जाना है जाओ, बहाने मत बनाओ

समाजवादी पार्टी को बड़ा झटका देते हुए इसकी 22 साल से सदस्य रहीं एमएलसी सरोजनी अग्रवाल बीजेपी में शामिल हो गईं. उनसे पहले सपा के दो एमएलसी बुक्कल नवाब और यशवंत सिंह ने विधान परिषद से इस्तीफा दे दिया था और 31 जुलाई को बीजेपी में शामिल हो गए थे. तीनों एमएलसी विधान परिषद की सदस्यता से इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल हुए हैं.

यह भी पढ़ें : पूर्व सपा नेता बुक्कल नवाब और यशवंत सिंह ने थामा बीजेपी का दामन

उधर बीएसपी को एमएलसी ठाकुर जयवीर ने झटका दिया. उन्होंने विधानपरिषद से इस्तीफा दे दिया है. पहले बीएसपी के राष्ट्रीय महासचिव और उत्तर प्रदेश विधान सभा में विपक्ष के नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने पार्टी से त्यागपत्र दे दिया था. इसके थोड़े दिन बाद ही पार्टी के दूसरे राष्ट्रीय महासचिव आरके चौधरी ने पार्टी छोड़ दी थी.

VIDEO : बीजेपी की सपा-बसपा में सेंध


यूपी की योगी सरकार में पांच ऐसे मंत्री हैं जो विधानसभा के किसी भी सदन के सदस्य नहीं हैं. समझा जाता है कि बीजेपी इन विधानपार्षदों के इस्तीफ़े से खाली हुई सीटों से उन्हें विधान परिषद भेजेगी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement