NDTV Khabar

अयोध्या में गरजे CM योगी, बोले- जिन लोगों ने अयोध्या की पहचान दबाई, जनता उन्हें सबक सिखाए

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नगरीय निकाय चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत करते हुए पूर्ववर्ती सरकारों पर नगरीय निकायों को चौपट करने का आरोप लगाया.

741 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अयोध्या में गरजे CM योगी, बोले- जिन लोगों ने अयोध्या की पहचान दबाई, जनता उन्हें सबक सिखाए

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. योगी ने अयोध्या से किया चुनावी अभियान का आगाज
  2. उन्होंने निकायों में भाजपा का शासन लाने की अपील की
  3. कहा- जिन लोगों ने अयोध्या की पहचान दबाई, जनता उन्हें सबक सिखाए
अयोध्या: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नगरीय निकाय चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत करते हुए पूर्ववर्ती सरकारों पर नगरीय निकायों को चौपट करने का आरोप लगाया और कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विकास का सपना पूरा करने के लिये इन निकायों में भाजपा का शासन लाना होगा. मुख्यमंत्री ने अयोध्या, गोण्डा और बहराइच में नगरीय निकाय चुनाव के लिये ताबड़तोड़ चुनावी सभाएं कीं. उन्होंने अयोध्या में आयोजित अपनी पहली रैली में भाजपा को जिताने के लिये साधु-संतों से अपील की और कहा, ‘अयोध्या की पहचान आपसे है और आपकी पहचान अयोध्या से है. आप सभी से मेरी विनती है कि जनता से बड़ी संख्या में वोट की अपील करें, ताकि अयोध्या नगर निगम में भाजपा को पूर्ण बहुमत मिले.’ 

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विकास के सपने को पूरा करने के लिये उत्तर प्रदेश के विभिन्न नगरीय निकायों में भाजपा को सत्ता में लाना होगा. प्रदेश की पूर्ववर्ती सरकारों ने पिछले 15 वर्षों के दौरान जनता के धन का जिस तरह दुरुपयोग किया है, उससे नगरीय निकायों का विकास थम चुका है. मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि पूर्ववर्ती सरकारों ने अयोध्या के विकास पर कोई ध्यान नहीं दिया, जिन लोगों ने अयोध्या की पहचान को दबाने की कोशिश की और जनता उन्हें सबक सिखाये. अयोध्या ने दुनिया को दीपावली का त्योहार दिया लेकिन अयोध्या से ही दीवाली गायब हो गयी थी, इसलिये उनकी पूरी सरकार ने इस बार खुद अयोध्या में दीपावली मनायी. भाजपा अयोध्या को अन्तरराष्ट्रीय पहचान दिलायेगी. वह इसके लिये एक रोडमैप लेकर आयी है.

यह भी पढ़ें: अयोध्या का गौरव वापस मिलना चाहिए : योगी आदित्यनाथ

योगी ने गोण्डा में आयोजित जनसभा में कहा कि उनकी सरकार खाद्यान्न माफिया के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत कार्रवाई करेगी और भ्रष्ट अफसरों को अनिवार्य सेवानिवृत्त दी जाएगी. उन्होंने कहा कि सभी कार्यालयाध्यक्षों को निर्देश दिया गया है कि कोई भी पत्रावली एक मेज पर तीन कार्य दिवसों से ज्यादा ना रुके. इसमें कोई हीलाहवाली की जाएगी तो दोषी व्यक्तियों के विरुद्ध प्रभावी कार्यवाही होगी. यहां तक कि सम्बन्धित अधिकारी या कर्मचारी को अनिवार्य सेवानिवृत्ति देकर उसके घर भेजा जा सकता है. शासन प्रशासन पर बोझ बन चुके लोगों को कूड़ेदान में डालकर बेरोजगार युवकों को नौकरियां दी जाएंगी.

यह भी पढ़ें: यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ की नज़र में आजादी के बाद यह शब्द है सबसे बड़ा झूठ

मुख्यमंत्री ने कहा कि खाद्यान्न और गन्ना माफिया उनके निशाने पर हैं. खाद्यान्न माफियाओं के खिलाफ रासुका के तहत कार्यवाही की जाएगी. जनता के धन पर डाका डालने का अधिकार किसी को भी नहीं है. योगी ने कहा कि गोण्डा के माथे पर देश का सबसे गंदा शहर होने का दाग लगा है. हमें इसे मिटाना है. इसके लिए भाजपा के बहुमत की शहरी सरकार बनानी होगी. उन्होंने गोंडा को मिली इस बदनामी के लिये पूर्ववर्ती सपा सरकार में नगर विकास मंत्री रहे आजम खां पर तंज कसा और कहा कि शहरों में सफाई का ठेका लखनऊ में बैठकर दिया जाएगा तो शहर की सफाई कैसे होगी.

VIDEO: धर्मनिरपेक्षता आजादी के बाद का सबसे बड़ा झूठ : सीएम योगी
मुख्यमंत्री ने बहराइच में नगर निकाय उम्मीदवारों के समर्थन में आयोजित एक जनसभा में कहा कि नगर निकायों की ‘छोटी सरकार’ बहुत महत्वपूर्ण है. पिछले कई वर्षों से अधिकांश नगर निकायों में विकास का कोई खास काम नहीं हुआ है. सपा और बसपा की सरकारों में निकायों को सिर्फ लूटा गया लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. प्रदेश में भाजपा सरकार की आठ माह की उपलब्धियां बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने सत्ता में आने के कुछ ही दिन बाद अवैध बूचड़खाने बंद कराए, 36 हजार करोड़ रूपये का किसानों का कर्ज माफ किया, रिकार्ड गेहूं खरीद की तथा प्रदेश में एक भी दंगा नहीं होने दिया.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement