NDTV Khabar

योगी की चेतावनी : सफाई की समुचित व्यवस्था नहीं करने वाले अधिकारियों पर होगी सख्त कार्रवाई

योगी ने कहा कि स्वास्थ्य का सीधा सम्बन्ध स्वच्छता से है इसलिए प्रदेश सरकार स्वच्छता के प्रति बेहद गम्भीर है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
योगी की चेतावनी : सफाई की समुचित व्यवस्था नहीं करने वाले अधिकारियों पर होगी सख्त कार्रवाई

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अधिकारी इन्दौर शहर को नजीर बनाएं...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जापानी इंसेफ्लाइटिस, डेंगू, स्वाइन फ्लू, मलेरिया, फाइलेरिया और अन्य जल जनित रोगों को लेकर मंगलवार को चेताया कि साफ-सफाई की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित नहीं करने वाले अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. योगी ने यहां योजना भवन में नगर विकास विभाग के कार्यों की समीक्षा के दौरान कहा, 'स्वास्थ्य का सीधा सम्बन्ध स्वच्छता से है इसलिए प्रदेश सरकार स्वच्छता के प्रति बेहद गम्भीर है.'

उन्होंने नगर आयुक्तों एवं अधिशासी अधिकारियों को स्वच्छता की प्रभावी व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश देते हुए कहा कि इसके माध्यम से जापानी इंसेफ्लाइटिस, डेंगू, स्वाइन फ्लू, मलेरिया, फाइलेरिया एवं अन्य जल जनित रोगों पर नियंत्रण स्थापित किया जा सकता है.

पढ़ें: मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलने पर बवाल, योगी आदित्यनाथ सरकार ने बताई यह वजह

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को सचेत करते हुए कहा कि गन्दगी के कारण ही ये बीमारियां पनपती हैं इसलिए नागर निकायों में साफ-सफाई की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित न करने वाले अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि देश के 100 गन्दे शहरों में 52 शहर उत्तर प्रदेश के हैं. उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि अधिकारी इन्दौर शहर को नजीर बनाएं, जो स्वच्छता के मामले में पहले स्थान पर है. बीमारियों पर नियंत्रण के लिए साफ-सफाई के साथ-साथ शुद्ध पेयजल की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जाए.

VIDEO : बिल्डरों को योगी आदित्यनाथ का अल्टीमेटम


टिप्पणियां
मुख्यमंत्री ने कहा कि विभागों के आपसी तालमेल से जल जनित रोगों से बचा जा सकता है. ग्राम्य विकास विभाग तथा नगर विकास विभाग की यह जिम्मेदारी है कि वे जनता को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराएं. उन्होंने कहा कि जापानी इंसेफ्लाइटिस से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग को जनवरी-फरवरी से ही तैयारी शुरू करनी चाहिए क्योंकि वैक्सीन के एक्टीवेशन में तीन से चार माह लगते हैं. स्वास्थ्य विभाग द्वारा ट्रीटमेण्ट प्रोटोकाल का पालन किया जाए. स्वास्थ्य विभाग सभी पीएचसी एवं सीएचसी में दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करे. इस अवसर पर नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह, नगर विकास राज्यमंत्री गिरीश चन्द्र यादव सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement