NDTV Khabar

ताजमहल के पास मल्टीलेवल पार्किंग को लेकर योगी सरकार को राहत नहीं, SC ने कहा- इतनी जल्दी में क्यों हैं?

योगी सरकार को सुप्रीम कोर्ट से ताजमहल के पास निर्माणाधीन मल्टीलेवल पार्किंग को लेकर फिलहाल राहत नहीं मिली है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ताजमहल के पास मल्टीलेवल पार्किंग को लेकर योगी सरकार को राहत नहीं, SC ने कहा- इतनी जल्दी में क्यों हैं?

ताजमहल (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. ताजमहल के पास मल्टीलेवल पार्किंग को लेकर योगी सरकार को राहत नहीं
  2. SC ने कहा- इतनी जल्दी में क्यों हैं?
  3. यूपी सरकार ने कहा कि पार्किंग न होने से ट्रैफिक की बड़ी समस्या हो रही है
नई दिल्ली: योगी सरकार को सुप्रीम कोर्ट से ताजमहल के पास निर्माणाधीन मल्टीलेवल पार्किंग को लेकर फिलहाल राहत नहीं मिली है. ताज महल के ईस्ट गेट की तरफ बनाए जा रहे अंतर्राष्ट्रीय स्तर के शिल्पग्राम के प्रोजेक्ट के तहत बन रही पार्किंग के लिए 11 पेड़ काटने की इजाजात सुप्रीम कोर्ट ने नही दी. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि रिपोर्ट कहती है जितने पेड़ उस हिस्से में लगाये गए, उसमें से ज्यादा सूख रहे है और मरने की कगार पर हैं. सुप्रीम कोर्ट ने कहा पौधे मर रहे है और आपके पास समय नहीं है कि उसकी जगह दूसरा पेड़ लगाएं. आप इमारतों का निर्माण कराना चाहते हैं. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हम किसी भी निर्माण के खिलाफ नहीं है, लेकिन निर्माणकार्य और पर्यावरण में संतुलन होना चाहिए.

यह भी पढ़ें:  सुप्रीम कोर्ट से योगी सरकार को बड़ी राहत, बालू की ई-टेंडरिंग को मिली हरी झंडी

उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा कि पार्किंग न होने से ट्रैफिक की बड़ी समस्या हो रही है, जिसपर कोर्ट ने कहा कि अगर आप चाहे तो इसे मैनेज कर सकते हैं, बस जरूरत इच्छाशक्ति की है. सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को कहा कि आप विदेशी टूरिस्ट की बात करते हैं. आपको पता होगा कि वो हमसे ज्यादा चलते हैं. दरअसल, यह बात कोर्ट ने तब कही, जब सरकार की तरफ से कहा गया कि पार्किंग 1 किलोमीटर दूर है.सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को कहा कि आप इतनी जल्दी में क्यों है. सब धीरे धीरो होगा. सुप्रीम कोर्ट दो हफ्ते बाद अब इस पूरे मामले की सुनवाई करेगा. सुप्रीम ने पूछा पर्यावरण के अलावा ताज महल के संरक्षण के लिए और क्या पॉलिसी है?

यह भी पढ़ें: VIDEO: यूपी के महाराजगंज में पुलिस की हैवानियत, थाने में नाबालिग को लाठी-डंडे से जमकर पीटा

टिप्पणियां
इससे पहले योगी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर कहा कि पिछले 15 सालों में ताजमहल के पास प्रदूषण का स्तर समान बना हुआ है और ईमारत पूरी तरह सुरक्षित है. हालांकि, PM 10 की मात्रा तय मानक से थोड़ी ज्यादा है. योगी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि ताजमहल के आस-पास 500 मीटर के दायरे में किसी भी प्रकार के पर्यटक वाहन की एंट्री नहीं है. योगी सरकार ने अपने जवाब में कहा कि ताजमहल के आस-पास रहने वाले 1766 लोगों को अपने वाहन लाने के लिए पास दिया गया है. सरकार ने कहा कि इसमें से 47 कार और 1319 दो पहिया वाहन हैं. योगी सरकार ने कहा कि TTZ  के पूरे इलाके में लकड़ी जलाने पर पाबंदी है. सरकार ने उज्वला स्कीम के तहत सबको रसोई गैस मुहैया कराई है. 

VIDEO: पिछली सरकारों की खामियों पर सीएम योगी लाए श्वेतपत्र
सरकार ने सरकार ने कहा कि ताजमहल के समीप बाई पास बनाया गया है, ताकि ट्रैफिक की समस्या ना हो सके. ताजमहल के पास शमशान गृह पर वायु प्रदूषण कंट्रोल करने का सिस्टम लगाया गया है.याचिकाकर्ता एमसी मेहता ने कोर्ट को बताया कि यूपी सरकार इस पार्किंग को बिना कोर्ट की इजाजत के बना रही है और ये पर्यावरण के लिए खतरा हो सकता है. ये दो मंजिला पार्किंग अखिलेश सरकार के ताजमहल के ईस्ट गेट की तरफ बनाए जा रहे अंतर्राष्ट्रीय स्तर के शिल्पग्राम के प्रोजेक्ट का हिस्सा है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement