NDTV Khabar

डेंगू को लेकर योगी सरकार ने कसी कमर, बनाया गया फीवर हेल्प डेस्क

यूपी की चिकित्सा सचिव वी़ एच झिमोमी ने बताया कि जिलाधिकारियों की अध्यक्षता में जिला टास्क फोर्स समिति का गठन किया गया है.

90 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
डेंगू को लेकर योगी सरकार ने कसी कमर, बनाया गया फीवर हेल्प डेस्क

योगी सरकार ने डेंगू के मरीजों को सुविधा एवं सहायता हेतु सभी अस्पतालों में 'फीवर हेल्प डेस्क' स्थापित किया है.

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में राजधानी लखनऊ सहित कई जिलों में डेंगू ने अपना प्रभाव दिखाना शुरू कर दिया है. बरसात में फैलने वाली इस बीमारी को देखते हुए अब उत्तर प्रदेश सरकार ने डेंगू को लेकर अलर्ट जारी किया है. इसके तहत जनजागरण कार्यक्रम चलाया जाएगा और फीवर हेल्प डेस्क की भी स्थापना राज्य सरकार की ओर से की गई है. यूपी की चिकित्सा सचिव वी़ एच झिमोमी ने बताया कि जिलाधिकारियों की अध्यक्षता में जिला टास्क फोर्स समिति का गठन किया गया है, जो जिला स्तर पर विभिन्न विभागों से समन्वय स्थापित कर डेंगू तथा अन्य वेक्टर जनित रोगों की रोकथाम के लिए कार्रवाई करेगी. 

ये भी पढ़ें: आरजे मलिष्का के घर में डेंगू मच्छर के लार्वा

उन्होंने बताया कि प्रदेश में नोटिफिकेशन जारी कर इसे 'नोटिफियेबल डिजीज' घोषित कर दिया गया है, जिसके तहत अब निजी चिकित्सालयों, निजी नर्सिग होम्स एवं निजी पैथालॉजी को डेंगू व अन्य वेक्टर जनित रोगों से ग्रस्त मरीजों की सूचना जिले के मुख्य चिकित्साधिकारी को देनी अनिवार्य होगी, सूचना न देने पर संबंधित शख्स के खिलाफ विधिक कार्रवाई की जाएगी.

ये भी पढ़ें: डेंगू का पता लगाने के लिए बोयोसेंसर का ईजाद

सचिव ने बताया कि प्रदेश के सभी जनपदों के मुख्य चिकित्साधिकारियों की ओर से निजी चिकित्सालयों के चिकित्सकों के साथ बैठक कर भारत सरकार के दिशा-निर्देशन के अनुसार, डेंगू व अन्य वेक्टर जनित रोगों का इलाज करने की व्यवस्था की गई है.

ये भी जानें : जीका वायरस है जानलेवा, कैसे करें बचाव

योगी सरकार ने डेंगू के मरीजों को सुविधा एवं सहायता हेतु सभी अस्पतालों में 'फीवर हेल्प डेस्क' स्थापित किया है. गंभीर मरीजों को केन्द्रों तक ले जाने के लिए नि:शुल्क '108' एंबुलेन्स सेवा उपलब्ध कराई गई है. हर संवेदनशील शहर एवं गांव में रोस्टर बनाकर मच्छरों को मारने के लिए दवा का छिड़काव व फॉगिंग कराई जा रही है.

वीडियो: डेंगू और चिकुनगुनिया से बचने के उपाय


टिप्पणियां
इसके अलावा, सभी जनपदों में रैपिड रिस्पॉन्स (त्वरित प्रतिक्रिया) टीमों का भी गठन किया जा चुका है. इन टीमों का मुख्य कार्य डेंगू तथा अन्य वेक्टर जनित रोग के मरीजों के घर जाकर मच्छरों के लार्वा का पता लगाना और उनको नष्ट करते हुए परिवार के सदस्यों को संक्रमण से बचाव की जानकारी देना है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement