NDTV Khabar

योगी सरकार का कड़ा आदेश, धार्मिक स्थल, स्कूल और आबादी वाली जगहों पर नहीं खुलने देंगे शराब के ठेके

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
योगी सरकार का कड़ा आदेश, धार्मिक स्थल, स्कूल और आबादी वाली जगहों पर नहीं खुलने देंगे शराब के ठेके

योगी सरकार का निर्देश, अगर कोई शराब की दुकान नियम कानून का पालन नहीं कर रही तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाए.

खास बातें

  1. SC ने राष्ट्रीय राजमार्गों पर शराब की दुकानें हटाने के निर्देश दिए थे.
  2. सुप्रीम कोर्ट के आदेश का अनुपालन करने के आदेश दिए- श्रीकांत शर्मा
  3. हमारी जनता से अपील है कि वह कानून को हाथ में ना लें- शर्मा
लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार ने शुक्रवार को स्पष्ट कर दिया कि धार्मिक स्थानों, स्कूलों के आसपास और आबादी वाली जगहों पर शराब की दुकानें नहीं खुलने दी जाएंगी.

टिप्पणियां
प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने यहां पत्रकारों से कहा, 'उच्चतम न्यायालय ने राष्ट्रीय राजमार्गों पर स्थित शराब की दुकानें हटाने के आदेश दिए थे. सरकार सुनिश्चित करेगी कि वहां से हटी दुकानें आबादी वाले क्षेत्रों, धार्मिक स्थान और स्कूलों के पास ना हों.' शर्मा ने कहा, 'इस बात के सख्त आदेश दिए गए हैं कि उच्चतम न्यायालय के आदेश का अनुपालन हो. आबकारी सचिव और अन्य अधिकारियों को हिदायत दी गई है कि आवासीय क्षेत्रों, धार्मिक जगहों और स्कूलों के आसपास शराब के ठेके ना खुलें'. उन्होंने कहा कि ये निर्देश भी दिए गए हैं कि अगर कोई शराब की दुकान नियम कानून का पालन नहीं कर रही है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाए.

शर्मा ने कहा, 'अगर कहीं स्कूल, धार्मिक स्थान और आबादी वाले क्षेत्र में शराब की दुकान है तो अविलंब जिलाधिकारी को शिकायत करें. तत्पश्चात उसके (ऐसी शराब की दुकान) खिलाफ कार्रवाई होगी.. लेकिन तोड़फोड़ और आगजनी बिलकुल गलत है. हमारी जनता से अपील है कि वह कानून को हाथ में ना लें'. उन्होंने कहा, 'हम जन भावनाओं का सम्मान करते हैं, लेकिन साथ ही अनुरोध है कि कोई कानून को हाथ में ना लें. ये सरकार कानून से चलने वाली सरकार है. पूर्ववर्ती सरकारों की तरह शिकायत ठंडे बस्ते में नहीं जाएगी बल्कि शिकायत पर कार्रवाई की जाएगी'.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement