NDTV Khabar

कपाट खुलने के एक सप्ताह बाद फिर से आईटीबीपी ने बद्रीनाथ मंदिर परिसर की सफाई की

पिछले वर्ष पूरी यात्रा काल में लगभग 27 लाख लोग चारों धाम तक पहुंचे थे जो उत्तराखंड की 2013 की भीषण त्रासदी के बाद छह सालों  के अन्दर सबसे ज्यादा श्रद्धालुओं की संख्या थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कपाट खुलने के एक सप्ताह बाद फिर से आईटीबीपी ने बद्रीनाथ मंदिर परिसर की सफाई की

इस साल उत्तराखंड में चार धाम यात्रा के पहले 10 दिनों में रिकॉर्ड तोड़ श्रद्धालु दर्शन के लिए पहुंचे हैं.  

चमोली:

बद्रीनाथ मंदिर समिति के विशेष अनुरोध पर भारत तिब्बत सीमा पुलिस के पर्वतारोहियों के दल और पर्वतारोहण व  स्कीइंग इंस्टिट्यूट एम एंड एस आई औली के दल ने अलकनंदा नदी के तटों, मंदिर परिसर तथा अन्य स्थलों की साफ़ सफाई की. आईटीबीपी की टीम ने पर्वतारोहण उपकरणों की मदद से कई दुर्गम इलाकों में घुसकर उसकी सफाई की. इस साल दर्शनार्थियों का बहुत दबाव देखा गया. इस साल उत्तराखंड में चार धाम यात्रा के पहले 10 दिनों में रिकॉर्ड तोड़ श्रद्धालु दर्शन के लिए पहुंचे हैं.  

आखिरी चरण के मतदान से पहले अमित शाह पहुंचे सोमनाथ तो पीएम नरेंद्र मोदी केदारनाथ धाम

पिछले वर्ष पूरी यात्रा काल में लगभग 27 लाख लोग चारों धाम तक पहुंचे थे जो उत्तराखंड की 2013 की भीषण त्रासदी के बाद छह सालों  के अन्दर सबसे ज्यादा श्रद्धालुओं की संख्या थी.  उत्तराखंड प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक इस वर्ष कपाट खुलने के पहले दस दिनों में ही (17 मई 2019 तक ) लगभग चार लाख दर्शनार्थी अलग अलग धामों पर पहुंच चुके हैं . ऐसा अनुमान है कि इस वर्ष यदि दर्शनार्थियों की यही गति बनी रही तो इनकी संख्या शायद एक नया रिकॉर्ड स्थापित करे. 


पीएम मोदी ने किए केदारनाथ के दर्शन, गुफा में ध्‍यान भी लगाया

यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ को जाने वाली सड़कें वाहनों से अटी पड़ी हैं और यहां के होटल, गेस्ट हाउस आदि यात्रियों से भरे हुए हैं I केदारनाथ के लिए हेलीकाप्टर सेवा के लिए भी इंतज़ार सूची बहुत लम्बी है और लोग लम्बी कतारों में इसका इंतज़ार करते देखे जा रहे हैं. 
 

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement