कौन ले उड़ा IndVsWI सेमीफाइनल के 250 पासेस? महाराष्ट्र का मुख्य सचिव कार्यालय परेशान

कौन ले उड़ा IndVsWI सेमीफाइनल के 250 पासेस? महाराष्ट्र का मुख्य सचिव कार्यालय परेशान

प्रतीकात्मक चित्र

मुंबई:

भारत बनाम वेस्टइंडीज के सेमीफाइनल के मैच के पासेस को लेकर जितना घमासान क्रिकेट के दीवानों में है उससे ज्यादा घमासान फिलहाल महाराष्ट्र के प्रशासनिक मुखिया के दफ़्तर में मचा हुआ है।

1974 में MCA और महाराष्ट्र सरकार में एक समझौता हुआ था। वानखेडे स्टेडियम बनाने के लिए राज्य सरकार ने जमीन दी थी और 20 लाख रु का डोनेशन भी दिया था। इसके ऐवज में यह तय हुआ है कि हर इंटरनेशनल मैच के 250 पासेस सरकार को दिए जाएंगे। तब से आज तक यह परम्परा कायम है। इस के अनुसार भारत बनाम वेस्ट इंडीज के बीच आज गुरुवार की शाम 7.30 बजे से मुम्बई के वानखेडे स्टेडियम पर होनेवाले T20 वर्ल्ड कप सेमीफाइनल के 250 पास महाराष्ट्र सरकार के प्रतिनिधि के रूप में मुख्य सचिव के दफ़्तर में भेजे गए।
 


MCA उपाध्यक्ष और मुम्बई बीजेपी अध्यक्ष आशीष शेलार ने संवाददाताओं को बताया कि, राज्य सरकार के साथ हुए करारनामे के तहत ये 250 पासेस दिए गए हैं। अगर यह कम पड़ रहे हैं तो और 200 पासेस वे अपने कोटे से सरकार को देने के लिए तैयार हैं।

लेकिन, मुख्य सचिव ऐसे किसी पास के प्राप्त होने की बात को नकार चुके हैं। राज्य के मुख्य सचिव स्वाधीन क्षत्रीय ने संवाददाताओं को बताया कि, उनके दफ़्तर के पास MCA के भेजे 250 पास पहुंचे ही नहीं।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

सूत्र बता रहे हैं कि, चीफ सेक्रेटरी के दफ़्तर में जमा होने से पहले ही इन पासेस को सूबे के सबसे बड़े ऑफिस की तरफ़ गुपचुप तरीके से मोड़ दिया गया और राज्य के कुछ रसूखदार मंत्री और IAS ने इसमें से एक बड़ा हिस्सा लपक लिया है। जिसके चलते मुख्य सचिव के पास मैच के पासेस पहुंच ही न सके। जिसे लेकर वे काफ़ी नाराज बताए जा रहे हैं।

वानखेडे स्टेडियम कि कुल दर्शक संख्या फिलहाल 33 हजार है।
इस में से 350 क्लब को 7500
गरवारे क्लब को 6000
टाटा स्टैंड को 450
महाराष्ट्र मुख्य सचिव कार्यालय को 250
कॉर्पोरेट बॉक्स को 10 हजार और
आम दर्शक के लिए 4600 पासेस बंटते हैं।