NDTV Khabar

पाकिस्तान में ईशनिंदा कानून के खिलाफ रोम का प्राचीन कॉलेजियम हुआ ‘लाल’

इटली की राजधानी रोम के प्राचीन कॉलेजियम को बीते शनिवार को लाल रंग की रोशनी से रंग दिया गया.

376 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाकिस्तान में ईशनिंदा कानून के खिलाफ रोम का प्राचीन कॉलेजियम हुआ ‘लाल’

पाकिस्तान में ईशनिंदा कानून के खिलाफ रोम का प्राचीन कॉलेजियम हुआ ‘लाल’

खास बातें

  1. रोम का प्राचीन कॉलेजियम लाल रंग की रोशनी में रंगा
  2. पाकिस्तान में ईशनिंदा कानून के खिलाफ रंगा गया
  3. पाक ने ईशनिंदा के आरोप में एसिया बीबी को मौत की सजा दी है
रोम: इटली की राजधानी रोम के प्राचीन कॉलेजियम को बीते शनिवार को लाल रंग की रोशनी से रंग दिया गया. दरअसल, पाकिस्तान ने ईशनिंदा के आरोप में इसाई महिला एसिया बीबी को मौत की सजा दी है. उसी के विरोध में रोम के प्राचीन कॉलेजियम के लाल रंग की रोशनी से रंग दिया गया. रोम में कॉलेजियम के बाहर सैकड़ों लोग एसिया बीबी के पति और उनकी बेटी की गुहार को सुनने के लिए कॉलेजियम के बाहर एकत्रित हुए. एसिया बीबी पर ईशनिंदा का यह मामला वर्ष 2010 का है और इसी मामले में उन्हें मौत की सजा दी गई है. इसाई महिला एसिया बीबी ने इस संबंध में कई बार अपील की, लेकिन उन्हें कोई सफलता हाथ नहीं लगी.

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान द्वारा आतंकवाद से निपटने के लिए किए जा रहे प्रयासों से संतुष्ट नहीं हैं डोनाल्ड ट्रंप : व्हाइट हाउस

इस संबंध में एसिया बीबी के पति आशिक मसिह ने कहा कि उनकी पत्नी निर्दोष है और यह ईसाइयों के खिलाफ एक नफरत है. एसिया के पति और बेटी ने रोम मे ग्रुप को संबोधित करते हुए रो पड़े. आसिया बीबी का परिवार इस मामले में पोप से भी मुलाकात की है. ईसाई महिला एसिया बीबी पर इस्लाम के बारे में अपमानजनक टिप्पणी का आरोप है. उनपर आरोप है कि उन्होंने प्रोफेट मोहम्मद की निंदा की है.

यह भी पढ़ें: सेना प्रमुख रावत का पाक और चीन पर निशाना, बोले- बांग्लादेश से हो रही घुसपैठ के पीछे पड़ोसी देश की नीति जिम्मेदार

टिप्पणियां
ईशनिंदा कानून के तहत कोई भी इस्लाम या पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ बोलेगा, तो उसे मौत की सजा दी जाएगी. अगर मौत की सजा नहीं दी जाती है तो इस व्यक्ति को या तो आजीवन कारावास झेलना पड़ेगा और साथ ही जुर्माना देना पड़ेगा.

VIDEO: नॉर्थ-ईस्‍ट में पाक की प्रॉक्‍सी वॉर: सेना प्रमुख बिपिन रावत
पाकिस्तान के ईसाई नागरिकों का कहना है कि इस कानून से उन्हें नुकसान होता है. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement