NDTV Khabar

गजब का ये कप्तान, खुद का प्रदर्शन है जीरो, फिर भी बन गया वर्ल्डकप का हीरो

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
गजब का ये कप्तान, खुद का प्रदर्शन है जीरो, फिर भी बन गया वर्ल्डकप का हीरो

डैरेन सैमी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:
टिप्पणियां
कई बार ऐसा देखा गया है कि एक टीम की जीत हो या फिर हार कप्तान को क्रेडिट या खामियाजा भुगतना पड़ता है। अगर कोई कप्तान अच्छा खेलता है लेकिन उसकी टीम हार जाती है तब उसकी कप्तानी को लेकर सवाल उठाया जाता है। अगर किसी कप्तान का ज्यादा योगदान नहीं होता टीम मैच जीत जाती है तब भी कप्तान की तारीफ होती रहती है।

यह भारत के महान खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर के साथ भी हो चुका है। सचिन जब टीम इंडिया के कप्तान बने थे तब उनका प्रदर्शन अच्छा होते हुए भी भारत ज्यादा मैच नहीं जीत पाया था, जिसकी वजह से उनकी कप्तानी को लेकर कई सवाल उठाए जा रहे थे और उन्हें कप्तानी छोड़नी पड़ी थी।
 
टी-20 वर्ल्ड कप में ऐसा मामला फिर सामने आया है। लेकिन यह मामला सचिन से अलग है, वेस्टइंडीज के कप्तान डैरेन सैमी इस वर्ल्ड कप के हीरो बन गए हैं, क्योंकी उनकी कप्तानी में वेस्टइंडीज ने वर्ल्ड कप जीता है। अगर सैमी के खुद के खेल की बात की जाए तो सैमी ने इस वर्ल्ड कप में कोई अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है। चाहे वह गेंदबाज़ी में हो या बल्लेबाजी में, लेकिन फिर भी उनकी कप्तानी में वेस्टइंडीज ने वर्ल्ड कप जीत लिया है। चलिए जानते हैं इस वर्ल्ड कप में कैसा रहा सैमी का प्रदर्शन।
 
16, मार्च इंग्लैंड के खिलाफ वेस्टइंडीज का पहला मैच
इस मैच में सैमी ने एक भी ओवर बॉलिंग नहीं की और न ही बैटिंग में उन्हें मौका मिला। इस मैच के हीरो क्रिस गेल रहे जिन्होंने शानदार शतक ठोका। वेस्टइंडीज ने इस मैच को छह विकेट से जीता था।
 
21 मार्च को श्रीलंका के खिलाफ दूसरा मैच
इस मैच में भी सैमी ने खुद गेंदबाज़ी नहीं की और बल्लेबाजी में उनका नंबर नहीं आया। वेस्टइंडीज ने इस मैच को सात विकेट से जीता था।
 
25 मार्च, साउथ अफ्रीका के खिलाफ मैच
इस मैच में सैमी ने क्रिस गेल से तो गेंदबाजी करवाई, लेकिन खुद बॉलिंग नहीं की। इस मैच में सैमी को बल्लेबाजी करने का मौका तो मिला लेकिन पहली ही गेंद पर आउट हो गए। वेस्टइंडीज ने यह मैच तीन विकेट से जीता था।
 
30 मार्च को अफ़ग़ानिस्तान के खिलाफ
वेस्ट इंडीज ने अपना आखिर लीग मैच अफगानिस्तान के खिलाफ खेला। इस मैच में वेस्टइंडीज की हार हुई थी। कप्तान सैमी खुद अपने प्रदर्शन में फ़ेल हुए। सैमी ने इस मैच में दो ओवर बॉलिंग की और 17 रन दिए थे और उन्हें एक विकेट भी मिला था और दस गेंदों का सामना करते हुए उन्होंने सिर्फ छह रन बनाए थे।
 
भारत के खिलाफ सेमीफाइनल मैच
टीम इंडिया के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में न सैमी ने बॉलिंग की और न ही बैटिंग, लेकिन दूसरे खिलाड़ियों के शानदार प्रदर्शन की वजह से वेस्टइंडीज को इस मैच में जीत मिली और वेस्टइंडीज फाइनल में पहुंचा।
 
इंग्लैंड के खिलाफ फाइनल मैच
टी-20 वर्ल्ड कप के फाइनल मैच में इंग्लैंड के खिलाफ सैमी ने एक ओवर गेंदबाज़ी करते हुए 14 रन दिए और फिर जब बल्लेबाजी में मौका मिला तो सिर्फ दो रन बना पाए।
 
इस प्रकार से देखा जाए तो पूरे वर्ल्ड कप टी 20 टूर्नामेंट में सैमी ने छह मैच खेलते हुए सिर्फ तीन ओवर यानि 18 गेंदें बॉलिंग करते हुए 31 रन देकर एक विकेट लिया और बल्लेबाजी में पूरे छह मैच में 13 गेंद खेलते हुए सिर्फ 8 रन बनाए जिसमें न एक भी चौका था और न छक्का। लेकिन उनकी कप्तानी में वेस्टइंडीज ने वर्ल्ड कप जीत लिया। सैमी सबसे भाग्यशाली कप्तान इस मामले में भी रहे कि छह मैचों में से पांच मैच में टॉस जीता, जिसकी वेस्टइंडीज को खास जरूरत थी।
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement