NDTV Khabar

ईरान में अमेरिकी खुफिया एजेंसी CIA के 17 जासूस पकड़े गए, कुछ को दी गई मौत की सजा : रिपोर्ट

अमेरिका की ओर से मई में लगाए गए सख्त प्रतिबंधों के बाद दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर हैं और ऐसे में ईरान की ओर से किया गया यह दावा हालात को और बिगाड़ सकता है. बीती 4 जुलाई को जब ब्रिटेन ने ईरान के एक टैंकर को सीज किया था जवाब में उसने भी ब्रिटिश ऑयल टैंकर को  पिछले हफ्ते ही पकड़ लिया था. उस समय ईरान और पश्चिमी देशों के बीच तनाव बढ़ गया था. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ईरान में अमेरिकी खुफिया एजेंसी CIA के 17 जासूस पकड़े गए, कुछ को दी गई मौत की सजा  : रिपोर्ट

ईरान के शीर्ष नेता अयातुल्ला अली खमनेई (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

ईरान मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक 17 अमेरिकी जासूसों को पकड़ा गया है जो केंद्रीय खुफिया विभाग यानी सीआईए (CIA) के लिए काम करते थे. इनमें से कई को फांसी दे दी गई है. ईरान के सरकारी न्यूज चैनल ने देश के इंटेलीजेंस मंत्रालय के हवाले से कहा है कि सीआईए के खुफिया तंत्र तोड़ कर 17 जासूसों को पकड़ लिया गया है. मंत्रालय से जुड़े एक अधिकारी ने बताया है कि जो पकड़े गए गए हैं उनमें से कुछ को फांसी भी दे दी गई है. वहीं मंत्रालय की ओर जारी बयान में कहा गया है कि पकड़े गए जासूस संवेदनशील, निजी आर्थिक केंद्रों, सेना और साइबर क्षेत्र में नौकरी कर रहे थे जहां ये सभी महत्वपूर्ण सूचनाएं जुटाटे थे. अमेरिका की ओर से मई में लगाए गए सख्त प्रतिबंधों के बाद दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर हैं और ऐसे में ईरान की ओर से किया गया यह दावा हालात को और बिगाड़ सकता है. बीती 4 जुलाई को जब ब्रिटेन ने ईरान के एक टैंकर को सीज किया था जवाब में उसने भी ब्रिटिश ऑयल टैंकर को  पिछले हफ्ते ही पकड़ लिया था. उस समय ईरान और पश्चिमी देशों के बीच तनाव बढ़ गया था. 

ईरान के सरकारी मीडिया संगठनों के अकाउंट ट्विटर ने किए बंद


फिलहाल प्रधानमंत्री टेरेसा मे फारस की खाड़ी में ईरान द्वारा  ब्रिटिश झंडे वाला तेल टैंकर  जब्त किए जाने को लेकर चर्चा करने के लिए ब्रिटेन की आपातकालीन समिति के साथ बैठक करेंगी.  प्रधानमंत्री कार्यालय की प्रवक्ता ने रविवार को कहा कि मंत्रियों और अधिकारियों से घटनाक्रम पर ताजा सूचना प्राप्त करने के अलावा बैठक में फारस की खाड़ी में तेल टैंकरों की सुरक्षा को लेकर भी चर्चा होगी.   वहीं  ईरान की एक शक्तिशाली परिषद ने शनिवार को कहा कि रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण हरमुज जलडमरूमध्य में उसके देश द्वारा ब्रिटिश तेल टैंकर को जब्त किया जाना दो हफ्ते पहले ब्रिटेन द्वारा एक ईरानी सुपरटैंकर को जब्त किये जाने की प्रतिक्रिया थी.  

फारस की खाड़ी से आने-जाने वाले भारतीय टैंकरों पर नौसेना की होगी तैनाती​

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement