NDTV Khabar

यमन: अलकायदा के हमले में 19 सैनिकों की मौत, कई घायल 

सुरक्षा अधिकारी ने कहा कि अलकायदा के बंदूकधारियों ने अदन में गरुवार को हुए बम धमाके का फायदा उठाकर अल महफाद सैन्य अड्डे पर हमला किया और सैनिकों से मुठभेड़ हुई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
यमन: अलकायदा के हमले में 19 सैनिकों की मौत, कई घायल 

प्रतीकात्मक चित्र

खास बातें

  1. अलकायदा ने सैनिक ठिकानों पर किया हमला
  2. कई सौनिकों के घायल होने की सूचना
  3. 19 सौनिकों की हुई है मौत
अदन:

यमन में सेना के सैन्य अड्डे पर अलकायदा के हमलावरों की गोलीबारी में 19 सैनिकों की मौत हो गई. घटना शुक्रवार की है. सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि हमलावरों ने अबयान प्रांत के अल महफाद सैन्य अड्डे को निशाना बनाया और सैन्य अभियान से पहले घंटों तक वहीं छिपे रहे. अधिकारियों ने कहा कि जेहादियों से मुठभेड़ में सैनिकों की मौत हो गई. सुरक्षा अधिकारी ने कहा कि अलकायदा के बंदूकधारियों ने अदन में गरुवार को हुए बम धमाके का फायदा उठाकर अल महफाद सैन्य अड्डे पर हमला किया और सैनिकों से मुठभेड़ हुई. गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही ब्राजील की एक जेल में भी खूनी संघर्ष के दौरान 51 लोगों की मौत हो गई थी. प्रशासन ने यह जानकारी दी.

जेल में कैदियों के बीच दंगों में 57 की मौत, किसी ने दबाया गला तो किसी ने किया टूथब्रश से वार...


समाचार एजेंसी एफे की रिपोर्ट के अनुसार प्रांत की राजधानी बेलेम से लगभग 850 किलोमीटर दूर स्थित अल्टामीरा में जेल में लगभग पांच घंटों तक हिंसा जारी रही थी.घटना की जानकारी मिलने के बाद विभिन्न सरकारी एजेंसियों के संयुक्त प्रयास के बाद आरोपियों पर काबू पाया गया. पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार घटना में 16 के सर धड़ से अलग हो गए. वहीं, आरोपी गुट द्वारा एक सेल में आग लगाने के कारण 41 लोगों की मौत दम घुटने से हो गई. प्रांतीय जेल तंत्र के प्रमुख जारबास वास्कॉनसेलॉस ने संवाददाताओं को बताया था कि यह संघर्ष दूसरे गुट का सफाया करने के लिए किया गया था. यह एक स्थानीय हमला था. हमलावरों ने सेल में प्रवेश किया, कैदियों को मारा और बाद में कमरे में आग लगा दी.

ब्राजील की जेल में कैदियों के बीच संघर्ष, नौ की मौत, 14 लोग घायल

वहीं, जेल प्रबंधन ने कहा था कि जेल के एक हिस्से में कैदी जैसे ही नाश्ते के लिए बैठे, दूसरी सेल से आए हमलावरों ने जबरदस्ती घुस कर देशी हथियारों से अपने दुश्मनों पर हमला कर दिया. हमले के दौरान बंधक बनाए गए दो कर्मियों को बाद में सुरक्षित रिहा कर दिया गया. वहीं दो अन्य लोगों को घायलावस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया था. कुछ कैदियों के रिश्तेदारों ने अल्टामीरा में प्रदर्शन कर एक धड़े का स्थानांतरण करने की मांग की थी, जिससे विवाद से बचा जा सके. गौरतलब है कि ब्राजील की जेल में इस तरह का यह कोई पहला खूनी संघर्ष नहीं है.

ब्राजील में प्रदर्शनकारियों ने न्याय मंत्रालय पर कब्जा किया

इससे पहले इसी साल मई में सिन्हुआ के अनुसार, मनाउस शहर में एनीसिया जोबिम जेल परिसर में रविवार (27 मई) को मुलाकात के समय अंदर कैदियों में लड़ाई हो गई थी, जिसमें 15 लोगों की मौत हो गई थी. कैदी या तो एक-दूसरे की गला दबाकर हत्या कर रहे थे या एक-दूसरे पर टूथब्रश से हमला कर रहे थे.प्रशासन ने शव मिलने की सूचना दी थी. ये 42 शव सिर्फ एनीसिया जोबिम जेल में ही नहीं, बल्कि मानाउस में तीन अन्य जेलों में भी मिले.

एप्पल में नौकरी पाने के लिए शख्स ने हैक कर ली कंपनी, मिली ऐसी सज़ा...

जेल प्रशासनिक सचिवालय ने कहा था कि स्थिति अब नियंत्रण में है.अब तक वार्डन के घायल होने या कैदियों के भागने की सूचना नहीं है. समाचार एजेंसी एफे के अनुसार, ब्राजील में जेलों में दंगे, हत्याएं और सामूहिक रूप से कैदियों का भागना आम है. अंतर्राष्ट्रीय संगठन इसे दुनिया में सबसे बुरा और सबसे ज्यादा हिंसक कहते हैं. सबसे ज्यादा कैदियों के मामले में ब्राजील दुनिया में तीसरे स्थान पर है. यहां लगभग सात लाख कैदी हैं जो जेलों की क्षमता से लगभग दोगुने हैं.

टिप्पणियां

VIDEO: मुजफ्फरनगर दंगे के गवाह की हत्या, गवाही न देने का डाला जा रहा था दबाव



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement