NDTV Khabar

म्यांमार में रॉयटर्स के दो पत्रकारों को 7 साल की सजा, संस्था ने कहा- चुप नहीं बैठेंगे
पढ़ें | Read IN

म्यांमार में एक मामले की सुनवाई के दौरान एक न्यायाधीश ने सोमवार को संवाद समिति रॉयटर्स के दो पत्रकारों को सात-सात साल जेल की सजा सुनायी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
म्यांमार में रॉयटर्स के दो पत्रकारों को 7 साल की सजा, संस्था ने कहा- चुप नहीं बैठेंगे

दोनों पत्रकारों को सरकारी गोपनीयता कानून का उल्लंघन करने के मामले में सजा दी गई है.

नई दिल्ली : म्यांमार में एक मामले की सुनवाई के दौरान एक न्यायाधीश ने सोमवार को संवाद समिति रॉयटर्स के दो पत्रकारों को सात-सात साल जेल की सजा सुनायी. यह सजा रोहिंग्या संकट पर उनके द्वारा की गई रिपोर्टिंग में म्यांमार के सरकारी गोपनीयता कानून का उल्लंघन करने के सिलसिले में सुनायी गयी है. इसे मीडिया की स्वतंत्रता पर एक हमले के तौर पर देखा जा रहा है.  न्यायाधीश ये लवीन ने अदालत में कहा, ‘‘चूंकि उन्होंने गोपनीयता कानून के तहत अपराध किया है, दोनों को सात-सात साल जेल की सजा सुनायी जा रही है’’. 

रोहिंग्या संकट क्षेत्रीय सुरक्षा को खतरे में डाल सकती है : संयुक्त राष्ट्र 

टिप्पणियां
जिन दो पत्रकारों को सजा सुनाई गई है उनमें 32 वर्षीय वा लोन और 28 वर्षीय क्याव सोउ शामिल हैं. इससे पहले संयुक्त राष्ट्र, यूरोपियन यूनियन, अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया समेत तमाम देश और प्रेस की स्वतंत्रता के लिए काम करने वाली तमाम संस्थाओं ने दोनों पत्रकारों को रिहा करने की अपील की थी. दूसरी तरफ रॉयटर्स के एडिटर इन चीफ स्टीफन जे एडलेर ने एक स्टेटमेंट में कहा, 'आज म्यांमार, रॉयटर्स के दोनों पत्रकारों और तमाम प्रेस के लिए एक दुखद दिन है. हम चुप नहीं बैठेंगे. इस घटना से निपटने की रणनीति बनाएंगे. भले ही इसे इंटरनेशनल फोरम पर उठाना पड़े.  (इनपुट- भाषा) 



रोहिंग्या के दर्द की हकीकत को जानने म्यांमार, बांग्लादेश जाएगा संयुक्त राष्ट्र परिषद का प्रतिनिधि मंडल


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement