यह ख़बर 22 सितंबर, 2012 को प्रकाशित हुई थी

इस्लाम-विरोधी फिल्म : साइबेरिया में प्रदर्शन, पाकिस्तान में शांति

इस्लाम-विरोधी फिल्म : साइबेरिया में प्रदर्शन, पाकिस्तान में शांति

खास बातें

  • अमेरिका में बनी कथित इस्लाम विरोधी फिल्म 'इनोसेंस ऑफ मुस्लिम' के खिलाफ साइबेरिया में प्रदर्शन किया गया वहीं पाकिस्तान में शुक्रवार को किए गए व्यापक हिंसक प्रदर्शन के एक दिन बाद शांति रही। वहीं बांग्लादेश में धार्मिक संगठनों ने फिल्म के खिलाफ रविवार को बंद
बेलग्रेड/ढाका/इस्लामाबाद:

अमेरिका में बनी कथित इस्लाम विरोधी फिल्म 'इनोसेंस ऑफ मुस्लिम' के खिलाफ साइबेरिया में प्रदर्शन किया गया वहीं पाकिस्तान में शुक्रवार को किए गए व्यापक हिंसक प्रदर्शन के एक दिन बाद शांति रही। वहीं बांग्लादेश में धार्मिक संगठनों ने फिल्म के खिलाफ रविवार को बंद का आह्वान किया।

साइबेरिया के मुस्लिम बहुल क्षेत्र सैंडजैक में फुटबॉल प्रशंसकों ने इस्लाम की निंदा करने वाली फिल्म के विरोध में शांतिपूर्ण जुलूस निकाला।

नोवी पाजार शहर में 'टोर्सिडा सैंडजैक' फुटबॉल क्लब के समर्थकों ने शुक्रवार को 'फ्रीडम फार फिलिस्तीन, अफगानिस्तान एंड लीबिया' और 'द प्रोफेट इज इन माई हर्ट' वाले बैनर लेकर जुलूस निकाला।

यह जुलूस कई पुलिसकर्मियों की उपस्थिति में निकाला गया और प्रदर्शनकारियों ने तुर्की व बोस्निया का झंडा भी हवा में लहराया।
सैंडजैक के मुफ्ती मुआमर जुकोर्लिक ने कहा, "साइबेरिया के मुसलमानों ने इस प्रदर्शन के आयोजन में हिस्सा नहीं लिया लेकिन इसे उनका पूरा समर्थन प्राप्त है, क्योंकि मुसलमानों को इस अपमान के खिलाफ प्रदर्शन करने का पूरा हक है।"

पाकिस्तान में एक इस्लाम-विरोधी फिल्म के खिलाफ हुए प्रदर्शनों के एक दिन बाद शनिवार को स्थिति शांतिपूर्ण रही। शुक्रवार को हुए प्रदर्शनों में 23 लोग मारे गए व 200 अन्य घायल हुए।

शुक्रवार को देशभर में फिल्म के खिलाफ प्रदर्शन हुए। फिल्म को लेकर बाकी मुस्लिम देशों में भी उग्र प्रदर्शन हो रहे हैं। पाकिस्तान में शुक्रवार को 'योम-ए-इश्क-ए-रसूल' (पैगम्बर मोहम्मद के प्रति प्रेम का दिन) था।

कराची में शनिवार सुबह सड़कें वीरान दिखीं। यहां शुक्रवार की हिंसा में कम से कम 12 लोग मारे गए थे। कराची में सड़कों पर वाहन कम दिखे जबकि अमेरिकी वाणिज्य दूतावास की ओर जाने वाले मार्ग आज भी बंद रहे। होटल व दुकानें भी बंद हैं। लाहौर, रावलपिंडी और पेशावर सहित देश के अन्य शहरों में व्यवसायिक गतिविधियां जारी थीं।

लाहौर में जहां अमेरिकी वाणिज्य दूतावास को जाने वाले मार्ग को खोल दिया गया था वहीं पेशावर में वाणिज्य दूतावास के आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गई थी।

बांग्लादेश में धार्मिक समूहों ने इस्लाम विरोधी अमेरिकी वीडियो के खिलाफ रविवार को एक दिवसीय राष्ट्रव्यापी बंद का आह्वान किया है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार पुलिस ने पहले ही ढाका में विभिन्न स्थानों पर शुक्रवार शाम पांच बजे से रैलियों पर प्रतिबंध लगा दिया था।

पुलिस ने शनिवार को बताया कि यह निर्णय प्रदर्शन के दौरान दो विरोधी गुटों के मध्य झड़प के बाद लिया गया।

पुलिस ने बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया। प्रदर्शनकारियों ने विवादास्पद फिल्म निर्माता को गिरफ्तार न करने पर अपना आंदोलन दोबारा शुरू करने की धमकी दी।

इस्लामिक संगठन के एक नेता ने कहा, "अगर जरूरत पड़ी तो हम ढाका स्थित अमेरिकी दूतावास पर कब्जा करने का प्रयास करेंगे।"

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कम बजट में बनी फिल्म 'इनोसेंस ऑफ मुस्लिम' में कथित तौर पर पैगम्बर मुहम्मद का अपमान किया गया है।

इस फिल्म की वजह से मुस्लिम बहुल देशों में हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं। इस हिंसक प्रदर्शन में लीबिया में अमेरिकी राजदूत और बेंगाझी स्थित अमेरिकी के वाणिज्य दूतावास के तीन कर्मचारी मारे गए।