चीन के केमिकल प्लांट में धमाका, 22 लोगों की मौत, कई गंभीर रूप से घायल : रिपोर्ट

बीजिंग से 200 किलोमीटर दूर हाबेइ शेंगुआ केमिकल को. में यह हादसा हुआ. घटना की सूचना मिलने के बाद घायलों को फौरन पास के अस्पता में भर्ती कराया गया है जहां उनका फिलहाल इलाज चल रहा है.

चीन के केमिकल प्लांट में धमाका, 22 लोगों की मौत, कई गंभीर रूप से घायल : रिपोर्ट

चीन के प्लांट में धमाका

बीजिंग:

उत्तरी चीन स्थित एक केमिकल प्लांट के पास हुए धमाके (Blast in Chemical Plant) में 22 लोगों के मौत की खबर आ रही है. जबकि इस घटना में 22 अन्य लोगों के गंभीर रूप से घायल होने की भी खबर है. इस पूरे घटना की जानकारी बुधवार को एक अधिकारी ने दी. बीजिंग से 200 किलोमीटर दूर हाबेइ शेंगुआ केमिकल को. में यह हादसा हुआ. घटना की सूचना मिलने के बाद घायलों को फौरन पास के अस्पता में भर्ती कराया गया है जहां उनका फिलहाल इलाज चल रहा है. पुलिस (China Police) के अनुसार के इस घटना में प्लांट के अंदर खड़े 50 छोटे और बड़े ट्रक पर भी जल गए हैं. पुलिस और दमकल की गाड़ियां फिलहाल आग पर काबू पाने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: चाचा वसीम जाफर नहीं, वीरेंद्र सहवाग की मदद से किया अरमान ने ' बड़ा धमाका'

पुलिस ने स्थानीय लोगों को घटनावाली जगह से दूर रहने की हिदायत दी है. साथ ही घटना के समय में प्लांट में अन्य लोगों की तलाश भी की जा रही है. गौरतलब है कि ऐसी ही एक घटना में  उत्तर-प्रदेश में भी सामने आई थी जहां एक एनटीपीसी के बॉयलर में धमाके से एक साथ कई मजदूरों की मौत हो गई थी. घटना में कई दर्जन लोग गंभीर रूप से घायल भी हुए थे. उत्तर प्रदेश के रायबरेली में एनटीपीसी के बॉयलर में हुए धमाके में मरने वालों की तादाद तीस हो गई. करीब 65 लोग ज़ख़्मी हैं. इनमें से आधे पचास से 98 फ़ीसद तक जल जाने की वजह से गंभीर हालत में हैं.

यह भी पढ़ें: अमृतसर धमाके की पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष ने की कड़ी निंदा, कहा- शांति भंग करने की है कोशिश

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और केंद्रीय बिजली मंत्री आरके सिंह ने आज रायबरेली में पीड़ितों से मुलाकात की और घटनास्थल का जायज़ा लिया. केंद्र सरकार ने इसकी विभागीय जांच भी बिठा दी है.बता दें कि रायबरेली में NTPC में बॉयलर फटने से 30 लोगों ने अपनी जान गंवा दी. करीब 65 लोग ज़ख़्मी हैं. कई घायलों को ग्रीन कॉरिडोर बनाकर इलाज के लिए गुड़गांव से दिल्ली के सफ़दरजंग अस्पताल लाया गया है. घायलों को सफ़दरजंग लाने के लिए मेदांता अस्पताल की दो एम्बुलेंस को ग्रीन कॉरिडोर से निकाला गया. इसकी वजह से 21 किलोमीटर की दूरी महज़ 24 मिनट में तय कर घायलों को दिल्ली लाया जा सका. 

VIDEO: गड़गांव की सड़क पर दिखी बर्निंग कार.