अमेरिका : प्रदर्शन के दौरान 5 पुलिसकर्मी मारे गए, 3 संदिग्ध गिरफ्तार, एक ने की खुदकुशी

अमेरिका : प्रदर्शन के दौरान 5 पुलिसकर्मी मारे गए, 3 संदिग्ध गिरफ्तार, एक ने की खुदकुशी

डलास में प्रदर्शन के दौरान पांच पुलिस अफसरों की मौत हो गई (तस्वीर : AP)

खास बातें

  • डलास में प्रदर्शन के दौरान स्नाइपरों ने गोलियां चलाई
  • गोलीबारी में चार अफसरों की मौत हो गई
  • सात पुलिसकर्मी घायल हैं जिनमें से तीन की हालत गंभीर है
डलास:

अमेरिका के डलास में विरोध प्रदर्शन के दौरान दो स्नाइपरों ने पुलिसवालों पर गोलियां चलाई जिसमें पांच अफसर मारे गए और सात घायल हो गए हैं। तीन संदिग्धों को गिरफ्तार कर लिया गया है जिसमें एक महिला भी है। वहीं एक संदिग्ध के खुद को गोली मार लेने की रिपोर्ट आई है। इससे पहले इस संदिग्ध ने मध्यस्थता करने वाले को चेतावनी दी थी कि टेक्सास में चारों तरफ 'बम' बिछे हैं। गराज में छिपे इस संदिग्ध और पुलिस के बीच काफी देर से संघर्ष जारी था लेकिन अब उसके खुद को गोली मारे जाने की रिपोर्ट आ रही है।

'अंत जल्द ही आने वाला है'
इससे पहले पुलिस प्रमुख ने जानकारी दी थी कि 'जिस संदिग्ध से हम बातचीत कर रहे हैं वह पिछले 45 मिनट से गोलियां बरसा रहा है और उसने हमारे मध्यस्थता करने वाले आदमी से कहा है कि अंत जल्द ही आने वाला है और वह हमें से कई और लोगों को मारने वाला है यानि कानून के लोगों को। और यह भी की गराज और बाहर इलाके में चारों तरफ बम बिछे हुए हैं।' इसके आगे पुलिस ने कहा था कि 'इसलिए हम बहुत ही सावधानी से रणनीति तैयार कर रहे हैं ताकि डलास के नागरिकों को नुकसान न पहुंचे और हम आगे बात कर पाएं।'
 

तस्वीर : AP

बताया जा रहा है कि घायल अफसरों में से तीन की हालत बहुत गंभीर है। स्नाइपरों ने किसी 'ऊंची जगह' से गोली चलाई है और यह उस प्रदर्शन के दौरान हुआ जो पुलिस की हालिया जानलेवा कार्यवाही के विरोध में किया जा रहा था। गुरुवार रात 8 बजकर 45 मिनट पर गोलियां चलनी शुरू हुई। लाइव टीवी वीडियो में देखा गया कि किस तरह प्रदर्शनकारी सड़क पर मार्च करते हुए आगे बढ़ रहे थे तब अचानक गोलियों की आवाज़ें आने लगी और लोग भागने लगे।

संदिग्ध गिरफ्तार
पुलिस ने इस मामले से जुड़े तीन संदिग्धों को गिरफ्तार कर लिया है जिसमें से एक महिला है। इससे पहले डलास पुलिस विभाग ने एक संदिग्ध की तस्वीर ट्विटर पर शेयर भी की थी  -
 


बाद में पुलिस ने जानकारी दी कि जिस व्यक्ति की तस्वीर ट्वीट की गई थी, वह खुद ही पुलिस स्टेशन पहुंच गया है। हालांकि गिरफ्तार संदिग्ध के भाई का कहना है कि उसके भाई का इस मामले से कोई लेना देना नहीं है।
 
(AFP तस्वीर)

गौरतलब है कि बुधवार को सेंट पॉल में हुई एक घटना में फिलांडो कैस्टिल नाम के एक व्यक्ति की पुलिस की गोलियों से मौत हो गई। फिलांडो कैस्टिल नाम का यह शख्स कार में एक महिला और बच्चे के साथ था जब पुलिस ने उस पर गोलियां चलाई। इससे जुड़ा एक फेसबुक वीडियो काफी वायरल हुआ जिसे देखने के बाद इसे एक नस्लीय घटना बताया गया और इसी के विरोध में डलास में यह विरोध प्रदर्शन आयोजित किया गया था। यही नहीं मंगलवार को लुइज़ियाना के बैटन रूज़ शहर में एक अन्य काले व्यक्ति आल्टन स्टर्लिंग की मौत पुलिस की गोली लगने से हुई थी। डलास में हो रहा प्रदर्शन पुलिस की इसी नस्ल भेदी कार्यावाही के खिलाफ था।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी पुलिस की कार्यवाही को अनुचित बताते हुए कहा है कि इस हफ्ते पुलिस द्वारा अश्वेत व्यक्ति पर घातक गोलीबारी व्यापक नस्ली भेदभाव की सूचक है और सभी अमेरिकियों को इस तरह की घिनौनी घटनाओं से तकलीफ होनी चाहिए। ओबामा ने आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा 'श्वेत लोगों के मुकाबले अफ्रीकी-अमेरिकी लोगों के साथ बल प्रयोग करने की आशंका 30 फीसदी ज्यादा होती है। बल प्रयोग के बाद अफ्रीकी-अमेरिकी और हिस्पानवी लोगों की तलाशी लिए जाने की आशंका तीन गुना ज्यादा होती है।'

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)