NDTV Khabar

एच-1बी वीजा के लिए कड़ी सत्यापन प्रक्रिया लागू करने की सिफारिश

अमेरिका जाने वाले पेशेवरों में सबसे ज्यादा मांग एच-1बी वीजा की है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एच-1बी वीजा के लिए कड़ी सत्यापन प्रक्रिया लागू करने की सिफारिश

खास बातें

  1. वीजा प्रणाली में धोखाधड़ी से बचने के लिए सख्ती की बात
  2. सत्यापन करने की प्रक्रिया में सुधार की जरूरत
  3. सबसे ज्यादा मांग एच-1बी वीजा की है.
वाशिंगटन:

अमेरिका के आंतरिक सुरक्षा विभाग का कहना है कि एच-1बी वीजा देने के क्रम में अमेरिका की संघीय जांच एजेंसी को सभी आवेदनों का मौके पर जाकर सत्यापन करने की प्रक्रिया में सुधार करने की जरूरत है ताकि वीजा प्रणाली में धोखाधड़ी से बचा जा सके. अमेरिका जाने वाले पेशेवरों में सबसे ज्यादा मांग एच-1बी वीजा की है.

इस एशियाई देश का पासपोर्ट है दुनिया में 'सबसे ताकतवर', जानिए क्या है भारत की रैंकिंग

इंस्पेक्टर जनरल के कार्यालय ने इस सप्ताह जारी अपनी ताजा रिपोर्ट में कहा है कि अमेरिकी नागरिकता और आव्रजन सेवाएं (यूएससीआईएस) बार-बार कानून का उल्लंघन करने वालों के आवेदनों को रोकने की दिशा में ज्यादा काम कर सकता है और बाहरी पक्षकारों के साथ भी सहयोग कर सकता है. दरअसल, एच1बी वीजा के माध्यम से विदेशी पेशेवरों को नौकरी देने वाली कंपनियों में जा कर वीजा जांच करने की जिम्मेदारी यूएससीआईएस की होती है.

सुषमा स्वराज ने भारतीय मिशन से पाकिस्तानी बच्चे को मेडिकल वीजा देने को कहा


इंस्पेक्टर जनरल का कहना है कि एजेंसी यह दिखाने में असफल रही है कि एच-1बी वीजा कार्यक्रम के सुधार में मौका मुआयना कैसे योगदान कर रहा है. इंस्पेक्टर जनरल रिपोर्ट में कहा गया है कि इन चुनौतियों से निपटे बगैर यूएससीआईएस का मौका मुआयना एच-1बी वीजा कार्यक्रम को पूरी तरह सुरक्षित नहीं बनाता है और एजेंसी यह सुनिश्चित करने में असफल रहती है कि मौका मुआयना पर खर्च धन का उन्होंने सही उपयोग किया है.

रिपोर्ट के अनुसार, यूएससीआईएस प्रत्येक वर्ष 3,30,000 से ज्यादा एच-1बी वीजा आवेदनों को मंजूरी दे सकता है. अप्रैल, 2017 तक एजेंसी ने 6,80,000 वीजा आवेदनों को मंजूरी और वैधता प्रदान की है.

टिप्पणियां

इस रिपोर्ट में यह कहा गया है कि यूएससीआईएस सीमित संख्या में मौका मुआयना करती है और यह सुनिश्चित नहीं करती है कि वीजा जांच के दौरान उसके अधिकारी विस्तृत और बारीकी से जांच करें. यहां तक कि अधिकारियों को संभावित धोखाधड़ी या उल्लंघन का पता चलता है तो यूएससीआईएस उस पर हमेशा समुचित कार्रवाई नहीं करता.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement